Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jan 2024 · 1 min read

*चलें साध कर यम-नियमों को, तुम्हें राम जी पाऍं (गीत)*

चलें साध कर यम-नियमों को, तुम्हें राम जी पाऍं (गीत)
________________________
चलें साध कर यम-नियमों को, तुम्हें राम जी पाऍं
1)
सद्भावों से आपूरित कर, मन कंचन कर देना
स्वच्छ बनाकर दसों दिशाऍं, अभिनंदन कर देना
मुक्त मलिनताओं से होकर, प्रभु-दर्शन को जाऍं
2)
सत्य-अहिंसा का व्रत लेकर, बनें अपरिग्रह साधक
ब्रह्मचर्य अस्तेय तपस्या, के हम हों आराधक
भाव समर्पित निष्ठा का हम, तुम में प्रभो जगाऍं
3)
बना एक मंदिर इस तन को, जिह्वा तुमको गाए
जीवन में संतोष-सुरभि ला, परम पूर्णता पाए
हृदय-भवन में सदा विराजे, तुमसे लगन लगाऍं
चलें साध कर यम-नियमों को, तुम्हें राम जी पाऍं
———————————-
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

160 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Lokesh Sharma
THE GREY GODDESS!
THE GREY GODDESS!
Dhriti Mishra
प्रकृति ने चेताया जग है नश्वर
प्रकृति ने चेताया जग है नश्वर
Buddha Prakash
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
कृष्णकांत गुर्जर
आप लाख प्रयास कर लें। अपने प्रति किसी के ह्रदय में बलात् प्र
आप लाख प्रयास कर लें। अपने प्रति किसी के ह्रदय में बलात् प्र
ख़ान इशरत परवेज़
रंग भरी पिचकारियाँ,
रंग भरी पिचकारियाँ,
sushil sarna
याद
याद
Kanchan Khanna
पहले नदियां थी , तालाब और पोखरें थी । हमें लगा पानी और पेड़
पहले नदियां थी , तालाब और पोखरें थी । हमें लगा पानी और पेड़
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
भोजपुरी गाने वर्तमान में इस लिए ट्रेंड ज्यादा कर रहे है क्यो
भोजपुरी गाने वर्तमान में इस लिए ट्रेंड ज्यादा कर रहे है क्यो
Rj Anand Prajapati
करोगे रूह से जो काम दिल रुस्तम बना दोगे
करोगे रूह से जो काम दिल रुस्तम बना दोगे
आर.एस. 'प्रीतम'
3328.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3328.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
इश्क़ कर लूं में किसी से वो वफादार कहा।
इश्क़ कर लूं में किसी से वो वफादार कहा।
Phool gufran
जिंदगी एक चादर है
जिंदगी एक चादर है
Ram Krishan Rastogi
गरम कचौड़ी यदि सिंकी , बाकी सब फिर फेल (कुंडलिया)
गरम कचौड़ी यदि सिंकी , बाकी सब फिर फेल (कुंडलिया)
Ravi Prakash
शरणागति
शरणागति
Dr. Upasana Pandey
आत्मवंचना
आत्मवंचना
Shyam Sundar Subramanian
"शेष पृष्ठा
Paramita Sarangi
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कुछ लोग
कुछ लोग
Shweta Soni
उसको ख़ुद से ही ये गिला होगा ।
उसको ख़ुद से ही ये गिला होगा ।
Neelam Sharma
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
गुप्तरत्न
माईया गोहराऊँ
माईया गोहराऊँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरी एक बार साहेब को मौत के कुएं में मोटरसाइकिल
मेरी एक बार साहेब को मौत के कुएं में मोटरसाइकिल
शेखर सिंह
गाछ सभक लेल
गाछ सभक लेल
DrLakshman Jha Parimal
"आज के दौर में"
Dr. Kishan tandon kranti
धिक्कार उन मूर्खों को,
धिक्कार उन मूर्खों को,
*प्रणय प्रभात*
कहने को तो बहुत लोग होते है
कहने को तो बहुत लोग होते है
रुचि शर्मा
* तेरी सौग़ात*
* तेरी सौग़ात*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुम नहीं बदले___
तुम नहीं बदले___
Rajesh vyas
Loading...