Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Dec 2023 · 2 min read

* चली रे चली *

डॉ अरुण कुमार शास्त्री
शीर्षक
*चली रे चली *

खुशबू बिखेरती
जुल्फों को छेड़ती
अधरों पर लिए मुस्कान
चली है नार नवेली
चली है नार नवेली ।
आँखों में है कोतूहल इनके
मन में झिलमिल शंका इनके
पर फुदक रही है चाल
चली है नार नवेली
चली है नार नवेली ।
घर से निकलते के ये खुश होतीं हैं
कारण एक हों या फिर चार ।
चली है नार नवेली
चली है नार नवेली ।
पढ़ने लिखने में हैं ये सयानी
काम काज में भी हैं ये नानी
गुटर गुटर करें बात
चली है नार नवेली
चली है नार नवेली ।
पटर पटर ये स्कूटी चलायें
अभी यहाँ हैं कभी वहाँ हैं
शॉपिंग करना शौक है इनका
बारगेनिग बिन काम न चलता
कुर्ती ले लें चार
चली है नार नवेली
चली है नार नवेली ।
इनकी बातें ये ही जाने
आपस में खुस फुस और
आँख से करती हैं इशारे ।
तुरंत बदल दे चाल
चली है नार नवेली
चली है नार नवेली ।
इनसे उलझना तुम मत भैया
कर देंगी ये ता ता थैया ।
पल में आँसू पल मे काली
सूरत इनकी भोली भाली
ऊपर से गंभीर लगेंगी
टमाटर जैसी सॉफ्ट दिखेंगी
के भीतर मिर्ची लाल
चली है नार नवेली
चली है नार नवेली ।
गिटर पिटर अंग्रेजी बोलें
हिन्दी की तो टांग ही तोड़ें
आय एम सॉरी यू आर सॉरी
थैंक यू थैंक यू कर के न थकेंगी
पल में माशा पल में तमाशा
बात की पक्की कान की कच्ची
भूल न करना हैं न बच्ची
बड़े बड़ों के कान कुतरती
पहले दिन पहला शो देंखें
सजने सँवरने से ये चहके
फुदक फुदक बेहाल
चली है नार नवेली
चली है नार नवेली ।
खुशबू बिखेरती
जुल्फों को छेड़ती
अधरों पर लिए मुस्कान
चली है नार नवेली
चली है नार नवेली ।

249 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
एक अच्छी हीलर, उपचारक होती हैं स्त्रियां
एक अच्छी हीलर, उपचारक होती हैं स्त्रियां
Manu Vashistha
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
फितरत जग में एक आईना🔥🌿🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
परमेश्वर का प्यार
परमेश्वर का प्यार
ओंकार मिश्र
*पीड़ा*
*पीड़ा*
Dr. Priya Gupta
Life
Life
C.K. Soni
अर्जक
अर्जक
Mahender Singh
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*जाते हैं जग से सभी, राजा-रंक समान (कुंडलिया)*
*जाते हैं जग से सभी, राजा-रंक समान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
"रौनक"
Dr. Kishan tandon kranti
* बढ़ेंगे हर कदम *
* बढ़ेंगे हर कदम *
surenderpal vaidya
*तुम और  मै धूप - छाँव  जैसे*
*तुम और मै धूप - छाँव जैसे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
सार छंद विधान सउदाहरण / (छन्न पकैया )
सार छंद विधान सउदाहरण / (छन्न पकैया )
Subhash Singhai
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
लिये मनुज अवतार प्रकट हुये हरि जेलों में।
कार्तिक नितिन शर्मा
"चिढ़ अगर भीगने से है तो
*Author प्रणय प्रभात*
वो राह देखती होगी
वो राह देखती होगी
Kavita Chouhan
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
नेपाल के लुंबनी में सफलतापूर्ण समापन हुआ सार्क समिट एवं गौरव पुरुस्कार समारोह
नेपाल के लुंबनी में सफलतापूर्ण समापन हुआ सार्क समिट एवं गौरव पुरुस्कार समारोह
The News of Global Nation
ये चांद सा महबूब और,
ये चांद सा महबूब और,
शेखर सिंह
वो हमको देखकर मुस्कुराने में व्यस्त थे,
वो हमको देखकर मुस्कुराने में व्यस्त थे,
Smriti Singh
मौन सभी
मौन सभी
sushil sarna
नारी वेदना के स्वर
नारी वेदना के स्वर
Shyam Sundar Subramanian
दुआओं में जिनको मांगा था।
दुआओं में जिनको मांगा था।
Taj Mohammad
बेरोजगारी की महामारी
बेरोजगारी की महामारी
Anamika Tiwari 'annpurna '
मुनाफ़िक़ दोस्त उतना ही ख़तरनाक है
मुनाफ़िक़ दोस्त उतना ही ख़तरनाक है
अंसार एटवी
रेल दुर्घटना
रेल दुर्घटना
Shekhar Chandra Mitra
2450.पूर्णिका
2450.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दोहा- दिशा
दोहा- दिशा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सबसे प्यारा माॅ॑ का ऑ॑चल
सबसे प्यारा माॅ॑ का ऑ॑चल
VINOD CHAUHAN
संतोष धन
संतोष धन
Sanjay ' शून्य'
आपकी खुशहाली और अच्छे हालात
आपकी खुशहाली और अच्छे हालात
Paras Nath Jha
Loading...