Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Sep 2019 · 1 min read

चलती है जिन्दगी

कदम एक बढ़ाती है,
धीमी सी मुस्काती है,
सरपट दौड़ लगती है,
सुंदर भोर के आने से।
देखो, सुबह जग जाती है, जिंदगी..
दिन के रेलम पेल में,
निज जीवन झमेल में,
उदर क्षुधा सम्मेल में,
यदा कदा भटकाती है।
देखो, दिन में भाग लगाती है, जिंदगी..
धीरे कदम ठिठकती है,
हर पग पीछे हटाती है,
घर की चिंता सताती है,
दिनकर के ढल जाने से।
देखो,फिर मुड़कर आती है, जिंदगी..
सुकून भरी सुस्ताती है,
मन ही मन हर्षाती है,
सपनो में खो जाती है,
रजनी के चल आने से।
देखो, कैसे दुबग जाती है, जिंदगी..
जिंदगी के इस खेल में,
दिन और रात के मेल में,
कभी पास और फैल में,
अधुरी पूरी ढल जाती है।
देखो,कँही दूर निकल जाती है, जिंदगी..
रचनाकार@डॉ शिव लहरी’

Language: Hindi
2 Comments · 466 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ. शिव लहरी
View all
You may also like:
नौकरी
नौकरी
Rajendra Kushwaha
अपना घर
अपना घर
ओंकार मिश्र
*Treasure the Nature*
*Treasure the Nature*
Poonam Matia
*** हमसफ़र....!!! ***
*** हमसफ़र....!!! ***
VEDANTA PATEL
"जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल को दिल से खुशी होती है
दिल को दिल से खुशी होती है
shabina. Naaz
■ दोनों चिर-विरोधी।।
■ दोनों चिर-विरोधी।।
*प्रणय प्रभात*
आरजू
आरजू
Kanchan Khanna
I am Yash Mehra
I am Yash Mehra
Yash mehra
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
कोई दौलत पे, कोई शौहरत पे मर गए
The_dk_poetry
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
टूटा हुआ ख़्वाब हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
শহরের মেঘ শহরেই মরে যায়
শহরের মেঘ শহরেই মরে যায়
Rejaul Karim
Stop use of Polythene-plastic
Stop use of Polythene-plastic
Tushar Jagawat
बुंदेली दोहा-अनमने
बुंदेली दोहा-अनमने
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
श्री सुंदरलाल सिंघानिया ने सुनाया नवाब कल्बे अली खान के आध्यात्मिक व्यक्तित्व क
श्री सुंदरलाल सिंघानिया ने सुनाया नवाब कल्बे अली खान के आध्यात्मिक व्यक्तित्व क
Ravi Prakash
एक शे'र
एक शे'र
रामश्याम हसीन
आँखें शिकायत करती हैं गमों मे इस्तेमाल हमारा ही क्यों करते ह
आँखें शिकायत करती हैं गमों मे इस्तेमाल हमारा ही क्यों करते ह
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
गैरों सी लगती है दुनिया
गैरों सी लगती है दुनिया
देवराज यादव
तुम कहो तो कुछ लिखूं!
तुम कहो तो कुछ लिखूं!
विकास सैनी The Poet
मेरी फितरत है, तुम्हें सजाने की
मेरी फितरत है, तुम्हें सजाने की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
असफलता का घोर अन्धकार,
असफलता का घोर अन्धकार,
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
....ऐ जिंदगी तुझे .....
....ऐ जिंदगी तुझे .....
Naushaba Suriya
किसी रोज मिलना बेमतलब
किसी रोज मिलना बेमतलब
Amit Pathak
दिल से ….
दिल से ….
Rekha Drolia
"सुबह की चाय"
Pushpraj Anant
हालातों से युद्ध हो हुआ।
हालातों से युद्ध हो हुआ।
Kuldeep mishra (KD)
तेरा सहारा
तेरा सहारा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
दीया इल्म का कोई भी तूफा बुझा नहीं सकता।
दीया इल्म का कोई भी तूफा बुझा नहीं सकता।
Phool gufran
आप खुद का इतिहास पढ़कर भी एक अनपढ़ को
आप खुद का इतिहास पढ़कर भी एक अनपढ़ को
शेखर सिंह
कौन हो तुम
कौन हो तुम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...