Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

चन्द्रयान

पहुँचा नभ चन्द्रयान है
बढ़ाई देश की शान
इतिहास साक्षी बनेगा
अतुलनीय योगदान

गूँज रही चारों दिशाएँ
फहराया ऐसा ध्वज
हैरत में संसार सारा
हुआ आज भाल उन्नत

भारत की गौरव गाथा
फैल गई आज सर्वत्र
आओ सब जश्न मनाएँ
उन्नति की ओर करवट

सबके लिए दिवास्वप्न था
कर दिखाया सत्य आज
अविस्मरणीय विजय हुई
मेरा भारत महान।।

✍️”कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

1 Like · 107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर राह मौहब्बत की आसान नहीं होती ।
हर राह मौहब्बत की आसान नहीं होती ।
Phool gufran
तुम ही तो हो
तुम ही तो हो
Ashish Kumar
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
पतझड़ के मौसम हो तो पेड़ों को संभलना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
कोई इंसान अगर चेहरे से खूबसूरत है
कोई इंसान अगर चेहरे से खूबसूरत है
ruby kumari
एक लड़का,
एक लड़का,
हिमांशु Kulshrestha
कुछ भी रहता नहीं है
कुछ भी रहता नहीं है
Dr fauzia Naseem shad
तुम मेरा साथ दो
तुम मेरा साथ दो
Surya Barman
लेखन-शब्द कहां पहुंचे तो कहां ठहरें,
लेखन-शब्द कहां पहुंचे तो कहां ठहरें,
manjula chauhan
😊 लघुकथा :--
😊 लघुकथा :--
*Author प्रणय प्रभात*
अपनी धरती कितनी सुन्दर
अपनी धरती कितनी सुन्दर
Buddha Prakash
होठों पर मुस्कान,आँखों में नमी है।
होठों पर मुस्कान,आँखों में नमी है।
लक्ष्मी सिंह
दुआ नहीं मांगता के दोस्त जिंदगी में अनेक हो
दुआ नहीं मांगता के दोस्त जिंदगी में अनेक हो
Sonu sugandh
I know people around me a very much jealous to me but I am h
I know people around me a very much jealous to me but I am h
Ankita Patel
दिल की बात
दिल की बात
Bodhisatva kastooriya
"आग्रह"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जल बचाकर
जल बचाकर
surenderpal vaidya
चंचल मन***चंचल मन***
चंचल मन***चंचल मन***
Dinesh Kumar Gangwar
संबंधों के नाम बता दूँ
संबंधों के नाम बता दूँ
Suryakant Dwivedi
*सिर्फ तीन व्यभिचारियों का बस एक वैचारिक जुआ था।
*सिर्फ तीन व्यभिचारियों का बस एक वैचारिक जुआ था।
Sanjay ' शून्य'
सुनील गावस्कर
सुनील गावस्कर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जो भूलने बैठी तो, यादें और गहराने लगी।
जो भूलने बैठी तो, यादें और गहराने लगी।
Manisha Manjari
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ : दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
भोर अगर है जिंदगी,
भोर अगर है जिंदगी,
sushil sarna
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"हँसिया"
Dr. Kishan tandon kranti
पतझड़ के दिन
पतझड़ के दिन
DESH RAJ
नजर  नहीं  आता  रास्ता
नजर नहीं आता रास्ता
Nanki Patre
*जब शिव और शक्ति की कृपा हो जाती है तो जीव आत्मा को मुक्ति म
*जब शिव और शक्ति की कृपा हो जाती है तो जीव आत्मा को मुक्ति म
Shashi kala vyas
24/251. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/251. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पुश्तैनी दौलत
पुश्तैनी दौलत
Satish Srijan
Loading...