Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2023 · 1 min read

चट्टानी अडान के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं, हौसला बुलंद हो तो

चट्टानी अडान के आगे शत्रु भी झुक जाते हैं, हौसला बुलंद हो तो समय भी रूक जाती है । एकताबद्ध होकर आगे बढ्ने से लक्ष्य की प्राप्ति अवश्य होती है । शक्तिशाली कदम के आगे मानव ही नही आकाश भी झुक जाती है ।

2 Likes · 1228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वर दें हे मॉं शारदा, आए सच्चा ज्ञान (कुंडलिया)
वर दें हे मॉं शारदा, आए सच्चा ज्ञान (कुंडलिया)
Ravi Prakash
बहुमत
बहुमत
मनोज कर्ण
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
हमारी मोहब्बत का अंजाम कुछ ऐसा हुआ
Vishal babu (vishu)
ज़िंदगी तेरा
ज़िंदगी तेरा
Dr fauzia Naseem shad
सूरज ढल रहा हैं।
सूरज ढल रहा हैं।
Neeraj Agarwal
विनती
विनती
Saraswati Bajpai
तेरी गली में बदनाम हों, हम वो आशिक नहीं
तेरी गली में बदनाम हों, हम वो आशिक नहीं
The_dk_poetry
💐प्रेम कौतुक-221💐
💐प्रेम कौतुक-221💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
....????
....????
शेखर सिंह
2945.*पूर्णिका*
2945.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
होली है!
होली है!
Dr. Shailendra Kumar Gupta
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
जितना बर्बाद करने पे आया है तू
कवि दीपक बवेजा
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
‘निराला’ का व्यवस्था से विद्रोह
कवि रमेशराज
पिता मेंरे प्राण
पिता मेंरे प्राण
Arti Bhadauria
ई-संपादक
ई-संपादक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चलो दो हाथ एक कर ले
चलो दो हाथ एक कर ले
Sûrëkhâ Rãthí
परिवार
परिवार
Sandeep Pande
शायद ये सांसे सिसक रही है
शायद ये सांसे सिसक रही है
Ram Krishan Rastogi
"बहनों के संग बीता बचपन"
Ekta chitrangini
हुईं वो ग़ैर
हुईं वो ग़ैर
Shekhar Chandra Mitra
रूप से कह दो की देखें दूसरों का घर,
रूप से कह दो की देखें दूसरों का घर,
पूर्वार्थ
मेरे उर के छाले।
मेरे उर के छाले।
Anil Mishra Prahari
तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
sushil sarna
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
Dr. Kishan Karigar
सर्वप्रथम पिया से रँग लगवाउंगी
सर्वप्रथम पिया से रँग लगवाउंगी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
कदम रोक लो, लड़खड़ाने लगे यदि।
Sanjay ' शून्य'
याद तो हैं ना.…...
याद तो हैं ना.…...
Dr Manju Saini
केहिकी करैं बुराई भइया,
केहिकी करैं बुराई भइया,
Kaushal Kumar Pandey आस
Khud ke khalish ko bharne ka
Khud ke khalish ko bharne ka
Sakshi Tripathi
"किरायेदार"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...