Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2023 · 1 min read

चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।

चंद्रकक्षा में भेज रहें हैं।
धरा भेद वो खोज रहें हैं।।
चंद्रयान अब नभ में होगा।
सफ़ल लक्ष्य मंगल सब होगा।।
©®✍️ अरुणा डोगरा शर्मा

398 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Aruna Dogra Sharma
View all
You may also like:
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
3026.*पूर्णिका*
3026.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दुःख,दिक्कतें औ दर्द  है अपनी कहानी में,
दुःख,दिक्कतें औ दर्द है अपनी कहानी में,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
छल करने की हुनर उनमें इस कदर थी ,
छल करने की हुनर उनमें इस कदर थी ,
Yogendra Chaturwedi
अजीब शौक पाला हैं मैने भी लिखने का..
अजीब शौक पाला हैं मैने भी लिखने का..
शेखर सिंह
नाम हमने लिखा था आंखों में
नाम हमने लिखा था आंखों में
Surinder blackpen
खंजर
खंजर
AJAY AMITABH SUMAN
🙅 अक़्ल के मारे🙅
🙅 अक़्ल के मारे🙅
*Author प्रणय प्रभात*
अक्सर लोगों को बड़ी तेजी से आगे बढ़ते देखा है मगर समय और किस्म
अक्सर लोगों को बड़ी तेजी से आगे बढ़ते देखा है मगर समय और किस्म
Radhakishan R. Mundhra
*पश्चाताप*
*पश्चाताप*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ख़ता हुई थी
ख़ता हुई थी
हिमांशु Kulshrestha
आत्मसंवाद
आत्मसंवाद
Shyam Sundar Subramanian
“बदलते भारत की तस्वीर”
“बदलते भारत की तस्वीर”
पंकज कुमार कर्ण
मेरी शक्ति
मेरी शक्ति
Dr.Priya Soni Khare
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
कठोर व कोमल
कठोर व कोमल
surenderpal vaidya
अब न तुमसे बात होगी...
अब न तुमसे बात होगी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
रुत चुनावी आई🙏
रुत चुनावी आई🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
भोजपुरीया Rap (2)
भोजपुरीया Rap (2)
Nishant prakhar
माँ
माँ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अब न वो आहें बची हैं ।
अब न वो आहें बची हैं ।
Arvind trivedi
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
Dr. Man Mohan Krishna
हिंदू-हिंदू भाई-भाई
हिंदू-हिंदू भाई-भाई
Shekhar Chandra Mitra
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
Khaimsingh Saini
Ajeeb hai ye duniya.......pahle to karona se l ladh rah
Ajeeb hai ye duniya.......pahle to karona se l ladh rah
shabina. Naaz
अभी मेरी बरबादियों का दौर है
अभी मेरी बरबादियों का दौर है
पूर्वार्थ
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
जो लोग धन को ही जीवन का उद्देश्य समझ बैठे है उनके जीवन का भो
Rj Anand Prajapati
मगरूर क्यों हैं
मगरूर क्यों हैं
Mamta Rani
दोहा पंचक. . .
दोहा पंचक. . .
sushil sarna
जिंदगी में दो ही लम्हे,
जिंदगी में दो ही लम्हे,
Prof Neelam Sangwan
Loading...