Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2022 · 1 min read

“चंदा मामा, चंदा मामा”

चंदा मामा,चंदा मामा,
घर जल्दी आओ ना,
फैला है अंधियारा ,
देखो! दूर भगाओ ना,
खूबसूरत वादियों में अपने,
हमें भ्रमण कराओ ना,
चंदा मामा, चंदा मामा,
घर जल्दी आओ ना !1

तुम तो खेलने लगते हो शायद,
रास्ते में “गूगल” के संग,
कहां जा, छुप जाते हो?
कर देते हो आजादी भंग,
भूल जाते हो क्या अपनी डगर ?
आकर स्वेत रोशनी बिछाओ ना,
चंदा मामा, चंदा मामा,
घर जल्दी आओ ना !2

कभी जल्द लौट आते हो घर,
कभी देर रात जगाते हो,
कभी विशाल रूप धर लेते हो,
कभी चंद्र हार बन जाते हो,
अब छोड़ सारे ज़िद,आकर छत पर,
“प्रिंसी” को गाकर लोरी सुलाओ ना,
चंदा मामा, चंदा मामा,
घर जल्दी आओ ना !3

राकेश चौरसिया

2 Likes · 762 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from राकेश चौरसिया
View all
You may also like:
सभी फैसले अपने नहीं होते,
सभी फैसले अपने नहीं होते,
शेखर सिंह
साजिशें ही साजिशें...
साजिशें ही साजिशें...
डॉ.सीमा अग्रवाल
रोम रोम है दर्द का दरिया,किसको हाल सुनाऊं
रोम रोम है दर्द का दरिया,किसको हाल सुनाऊं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ସାଧୁ ସଙ୍ଗ
ସାଧୁ ସଙ୍ଗ
Bidyadhar Mantry
मतदान करो और देश गढ़ों!
मतदान करो और देश गढ़ों!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
रहे_ ना _रहे _हम सलामत रहे वो,
रहे_ ना _रहे _हम सलामत रहे वो,
कृष्णकांत गुर्जर
उससे मिलने को कहा देकर के वास्ता
उससे मिलने को कहा देकर के वास्ता
कवि दीपक बवेजा
हिन्दी दोहा - स्वागत
हिन्दी दोहा - स्वागत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अभी जाम छल्का रहे आज बच्चे, इन्हें देख आँखें फटी जा रही हैं।
अभी जाम छल्का रहे आज बच्चे, इन्हें देख आँखें फटी जा रही हैं।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जो कुछ भी है आज है,
जो कुछ भी है आज है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
लोग खुश होते हैं तब
लोग खुश होते हैं तब
gurudeenverma198
माये नि माये
माये नि माये
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरी फितरत तो देख
मेरी फितरत तो देख
VINOD CHAUHAN
आप
आप
Bodhisatva kastooriya
आईना बोला मुझसे
आईना बोला मुझसे
Kanchan Advaita
माटी
माटी
AMRESH KUMAR VERMA
मस्ती का त्योहार है होली
मस्ती का त्योहार है होली
कवि रमेशराज
"चार पैरों वाला मेरा यार"
Lohit Tamta
" रीत "
Dr. Kishan tandon kranti
ओ परबत  के मूल निवासी
ओ परबत के मूल निवासी
AJAY AMITABH SUMAN
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
Kanchan Khanna
किसान
किसान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ दूसरा पहलू
■ दूसरा पहलू
*Author प्रणय प्रभात*
चीरहरण
चीरहरण
Acharya Rama Nand Mandal
सर्वोपरि है राष्ट्र
सर्वोपरि है राष्ट्र
Dr. Harvinder Singh Bakshi
*एक व्यक्ति के मर जाने से, कहॉं मरा संसार है (हिंदी गजल)*
*एक व्यक्ति के मर जाने से, कहॉं मरा संसार है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
*
*"माँ महागौरी"*
Shashi kala vyas
काली हवा ( ये दिल्ली है मेरे यार...)
काली हवा ( ये दिल्ली है मेरे यार...)
Manju Singh
पाती प्रभु को
पाती प्रभु को
Saraswati Bajpai
3206.*पूर्णिका*
3206.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...