Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2023 · 2 min read

चंदा का अर्थशास्त्र

चंदा का अर्थशास्त्र
”””””””””””
“नमस्कार सर, आज हम आपके यहाँ गणपति चंदा के लिए आए हैं।” पाँच लोगों के साथ आए रमेश ने शर्मा जी से कहा।
“जी नमस्कार। आइए, बैठिए। मैं अभी लाकर देता हूँ।” शर्मा जी ने उन्हें आग्रहपूर्वक बैठने को कहा।
“सर, अभी तो चंदा ही दे दीजिए। और भी लोगों के घर जाना है। बैठ गए, तो बहुत समय लग जाएगा।” रमेश ने कहा।
“ठीक है रमेश बाबू। आप दो मिनट प्रतीक्षा कीजिए। मैं अभी लाया।” शर्मा जी अंदर गए और थोड़ी देर में वापस आकर पैसे देते हुए बोले, “ये लीजिए।”
“अरे सर। ये क्या ? मात्र एक सौ इंक्यावन रुपए ? कम से कम पाँच सौ रुपए तो कीजिए। मोहल्ले में इससे कम किसी ने नहीं दिया है। आपके सामने वाले वर्मा जी ने तो 1100/- रुपए दिए हैं। ये देखिए रसीद।” रमेश के साथ आए एक लड़के ने रसीद बुक दिखाते हुए कहा।
“ठीक है। ये लीजिए पैसे। आप हमारा भी 501/- रुपए कर दीजिए।” शर्मा जी ने साढ़े तीन सौ रुपए और देते हुए कहा।
“ये हुई न बात। धन्यवाद सर। अरे पंचम, शर्मा जी के नाम से 2100/- रुपए की रसीद काटकर दो।” रमेश ने रसीद बुक पकड़े पंचम से कहा।
शर्मा जी तुरंत बोले, “रमेश भाई, इससे ज्यादा पैसे दे पाने की मेरी ताकत नहीं है। बस इतना ही दे सकता हूँ।”
“सर, आपको और कुछ भी नहीं देना होगा। आपसे हम 500/- रुपए ही लेंगे, पर रसीद 2100/- रुपए की देंगे। क्या है कि अभी हमें मुहल्ले के और भी कई घरों में जाना है। वहाँ हमें बताना पड़ेगा न कि किसने कितने रुपए दिए।” रमेश जी ने उन्हें चंदे का अर्थशास्त्र समझाया।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

421 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुझे तेरी जरूरत है
मुझे तेरी जरूरत है
Basant Bhagawan Roy
योग क्या है.?
योग क्या है.?
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"मातृत्व"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल पर दस्तक
दिल पर दस्तक
Surinder blackpen
हिंदी
हिंदी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"सफ़ीना हूँ तुझे मंज़िल दिखाऊँगा मिरे 'प्रीतम'
आर.एस. 'प्रीतम'
"स्वतंत्रता दिवस"
Slok maurya "umang"
नींद की कुंजी / MUSAFIR BAITHA
नींद की कुंजी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ऐ,चाँद चमकना छोड़ भी,तेरी चाँदनी मुझे बहुत सताती है,
ऐ,चाँद चमकना छोड़ भी,तेरी चाँदनी मुझे बहुत सताती है,
Vishal babu (vishu)
अच्छा खाना
अच्छा खाना
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
शिव बन शिव को पूजिए, रखिए मन-संतोष।
शिव बन शिव को पूजिए, रखिए मन-संतोष।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"YOU ARE GOOD" से शुरू हुई मोहब्बत "YOU
nagarsumit326
2474.पूर्णिका
2474.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Rashmi Sanjay
💐प्रेम कौतुक-556💐
💐प्रेम कौतुक-556💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मित्र भेस में आजकल,
मित्र भेस में आजकल,
sushil sarna
कभी-कभी कोई प्रेम बंधन ऐसा होता है जिससे व्यक्ति सामाजिक तौर
कभी-कभी कोई प्रेम बंधन ऐसा होता है जिससे व्यक्ति सामाजिक तौर
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
नज़र का फ्लू
नज़र का फ्लू
आकाश महेशपुरी
शहद टपकता है जिनके लहजे से
शहद टपकता है जिनके लहजे से
सिद्धार्थ गोरखपुरी
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
ज़ैद बलियावी
डिप्रेशन कोई मज़ाक नहीं है मेरे दोस्तों,
डिप्रेशन कोई मज़ाक नहीं है मेरे दोस्तों,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
परशुराम का परशु खरीदो,
परशुराम का परशु खरीदो,
Satish Srijan
फेसबुक
फेसबुक
Neelam Sharma
..........?
..........?
शेखर सिंह
"अकेलापन"
Pushpraj Anant
गल्प इन किश एंड मिश
गल्प इन किश एंड मिश
प्रेमदास वसु सुरेखा
"अमरूद की महिमा..."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*बाद मरने के शरीर, तुरंत मिट्टी हो गया (मुक्तक)*
*बाद मरने के शरीर, तुरंत मिट्टी हो गया (मुक्तक)*
Ravi Prakash
Loading...