Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Nov 2016 · 1 min read

घूँट सुरा का तीखा होता प्यालों में : जितेन्द्र कमल आनंद ( पोस्ट१२६)

घूँट सुरा का तीखा होता प्यालों में माना ,बाला !
यात्रा शभ हो जाये भर दो खाली पैमाना ,बाला !
मेरे होठों के गीतों को रस मिल जाये भावों का ।
मिल जाये थोड़ी मिठास यदि कृपा आप की हो , बाला!!

—— जितेंद्रकमलआनंद
०१-११-१६– सॉई विहार कालोनी , रामपुर ( उ प्र )
पिन कोड २४४९०१

Language: Hindi
1 Comment · 297 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
हब्स के बढ़ते हीं बारिश की दुआ माँगते हैं
Shweta Soni
मेरा भूत
मेरा भूत
हिमांशु Kulshrestha
" चर्चा चाय की "
Dr Meenu Poonia
खूबसूरत पड़ोसन का कंफ्यूजन
खूबसूरत पड़ोसन का कंफ्यूजन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मन तेरा भी
मन तेरा भी
Dr fauzia Naseem shad
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
जी रहे हैं सब इस शहर में बेज़ार से
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सत्य प्रेम से पाएंगे
सत्य प्रेम से पाएंगे
महेश चन्द्र त्रिपाठी
महाप्रयाण
महाप्रयाण
Shyam Sundar Subramanian
ज़िंदगी में वो भी इम्तिहान आता है,
ज़िंदगी में वो भी इम्तिहान आता है,
Vandna Thakur
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
हरी भरी तुम सब्ज़ी खाओ|
Vedha Singh
क्षमा अपनापन करुणा।।
क्षमा अपनापन करुणा।।
Kaushal Kishor Bhatt
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
Manoj Mahato
खुद को संभाल
खुद को संभाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
■ हम होंगे कामयाब आज ही।
■ हम होंगे कामयाब आज ही।
*प्रणय प्रभात*
तुम और मैं
तुम और मैं
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
ये  कहानी  अधूरी   ही  रह  जायेगी
ये कहानी अधूरी ही रह जायेगी
Yogini kajol Pathak
घड़ी
घड़ी
SHAMA PARVEEN
बड़ी दूर तक याद आते हैं,
बड़ी दूर तक याद आते हैं,
शेखर सिंह
कुंडलिया . . .
कुंडलिया . . .
sushil sarna
अधखिला फूल निहार रहा है
अधखिला फूल निहार रहा है
VINOD CHAUHAN
गांव की गौरी
गांव की गौरी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बदलती जिंदगी की राहें
बदलती जिंदगी की राहें
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
3427⚘ *पूर्णिका* ⚘
3427⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
सत्य की खोज
सत्य की खोज
dks.lhp
आप लाख प्रयास कर लें। अपने प्रति किसी के ह्रदय में बलात् प्र
आप लाख प्रयास कर लें। अपने प्रति किसी के ह्रदय में बलात् प्र
ख़ान इशरत परवेज़
घन की धमक
घन की धमक
Dr. Kishan tandon kranti
हिन्दी
हिन्दी
लक्ष्मी सिंह
******
******" दो घड़ी बैठ मेरे पास ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मतला
मतला
Anis Shah
Loading...