Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2023 · 1 min read

घिन लागे उल्टी करे, ठीक न होवे पित्त

घिन लागे उल्टी करे, ठीक न होवे पित्त
ज़ख़्म दिए आतंक ने, दुखी देश का चित्त
दुखी देश का चित्त, क़त्ल रिश्तों का करते
कभी धर्म के नाम, कभी जाति-ज़हर भरते
महावीर कविराय, बात कड़वी पिन लागे
सिस्टम ज़िम्मेदार, आचरण से घिन लागे
—महावीर उत्तरांचली

2 Likes · 507 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
*इमली (बाल कविता)*
*इमली (बाल कविता)*
Ravi Prakash
सावन साजन और सजनी
सावन साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
ओ लहर बहती रहो …
ओ लहर बहती रहो …
Rekha Drolia
अपने सपनों के लिए
अपने सपनों के लिए
हिमांशु Kulshrestha
निकट है आगमन बेला
निकट है आगमन बेला
डॉ.सीमा अग्रवाल
*यदि हम खास होते तो तेरे पास होते*
*यदि हम खास होते तो तेरे पास होते*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अमेठी के दंगल में शायद ऐन वक्त पर फटेगा पोस्टर और निकलेगा
अमेठी के दंगल में शायद ऐन वक्त पर फटेगा पोस्टर और निकलेगा "ज़
*प्रणय प्रभात*
* मुस्कुराना *
* मुस्कुराना *
surenderpal vaidya
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
सत्य कुमार प्रेमी
मैं मुश्किलों के आगे कम नहीं टिकता
मैं मुश्किलों के आगे कम नहीं टिकता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
प्रेम कविता ||•
प्रेम कविता ||•
पूर्वार्थ
ऐ दिल सम्हल जा जरा
ऐ दिल सम्हल जा जरा
Anjana Savi
जाति आज भी जिंदा है...
जाति आज भी जिंदा है...
आर एस आघात
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
डिग्रियों का कभी अभिमान मत करना,
डिग्रियों का कभी अभिमान मत करना,
Ritu Verma
2392.पूर्णिका
2392.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दगा बाज़ आसूं
दगा बाज़ आसूं
Surya Barman
...........
...........
शेखर सिंह
अमरत्व
अमरत्व
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
With Grit in your mind
With Grit in your mind
Dhriti Mishra
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
बिन पैसों नहीं कुछ भी, यहाँ कद्र इंसान की
gurudeenverma198
*......कब तक..... **
*......कब तक..... **
Naushaba Suriya
सौगंध
सौगंध
Shriyansh Gupta
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
Neeraj Agarwal
इत्र, चित्र, मित्र और चरित्र
इत्र, चित्र, मित्र और चरित्र
Neelam Sharma
** सुख और दुख **
** सुख और दुख **
Swami Ganganiya
*लम्हे* ( 24 of 25)
*लम्हे* ( 24 of 25)
Kshma Urmila
आपसी समझ
आपसी समझ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*दिल का आदाब ले जाना*
*दिल का आदाब ले जाना*
sudhir kumar
तेरे मेरे बीच में,
तेरे मेरे बीच में,
नेताम आर सी
Loading...