Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Nov 2023 · 2 min read

घर हो तो ऐसा

लघुकथा

घर हो तो ऐसा

“दामाद जी, आखिर आपने उस घर में ऐसा क्या देखा कि अपनी बेटी के रिश्ते के लिए तुरंत हामी भर दी ?” शर्मा जी से उनके ससुर जी ने पूछा।
“पापा जी, उस घर में जहाँ मैंने आपकी नवासी का रिश्ता तय किया है, वहाँ बच्चों का बचपन और बड़ों का बड़प्पन दोनों ही सुरक्षित हैं। आज के समय में ऐसे परिवार दुर्लभ हैं।” शर्मा जी ने बताया।
“आपकी बात मैं ठीक से समझा नहीं बेटा।” ससुर जी ने जिज्ञासावश पूछा।
“पापा जी, हमारे होने वाले दामाद जी से तो आप सभी भलीभांति परिचित हैं। कल हमने लगभग पाँच घंटे उनके घर में बिताए। हमने देखा कि हमारे भावी समधी जी के परिवार में उनके पिता जी की ही चलती है। उनके दोनों बेटे व्हीलचेयर पर रहनेवाले अपने पिता जी की हर बात अक्षरशः मानते रहे। उनकी पत्नी अपनी बड़ी बहू के साथ लगभग पूरे समय किचन में लगी रहीं। दोनों छोटे बच्चे ज्यादातर समय अपने दादाजी और चाचाजी याने हमारे भावी दामाद जी से चिपके रहे। उनके घर की दीवारें बच्चों के लिए उपयोगी वर्णमाला, अल्फाबेट, गिनती, चार्ट से पटा हुआ है। वरना आजकल लोग फैशनेबल और दिखावे के चक्कर में घर में बड़ों और बच्चों के लिए कहाँ स्पेस रखते हैं ? इसलिए मुझे लगा कि हमारी परी के लिए वह परफेक्ट घर साबित होगा।”
ससुर जी ने शर्मा जी की ओर प्रशंसाभरी नजरों से मुस्कुराते हुए देखा। आँखें मानों कह रही हों, “पच्चीस साल पहले मैंने भी ऐसे ही एक परफेक्ट परिवार और युवक का चुनाव अपनी बेटी के लिए किया था।”
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

158 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रस्म ए उल्फ़त में वफ़ाओं का सिला
रस्म ए उल्फ़त में वफ़ाओं का सिला
Monika Arora
हिन्दी दोहा
हिन्दी दोहा "प्रहार"
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
डोर रिश्तों की
डोर रिश्तों की
Dr fauzia Naseem shad
कोरोना काल में काल से बचने के लिए
कोरोना काल में काल से बचने के लिए "कोवी-शील्ड" का डोज़ लेने व
*Author प्रणय प्रभात*
मुझे तुम मिल जाओगी इतना विश्वास था
मुझे तुम मिल जाओगी इतना विश्वास था
Keshav kishor Kumar
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
Anil Mishra Prahari
जा रहा है
जा रहा है
Mahendra Narayan
प्यार आपस में दिलों में भी अगर बसता है
प्यार आपस में दिलों में भी अगर बसता है
Anis Shah
‘ विरोधरस ‘---11. || विरोध-रस का आलंबनगत संचारी भाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---11. || विरोध-रस का आलंबनगत संचारी भाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
जाति-धर्म में सब बटे,
जाति-धर्म में सब बटे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हिंदी
हिंदी
Mamta Rani
कुछ फूल तो कुछ शूल पाते हैँ
कुछ फूल तो कुछ शूल पाते हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*राजनीति का अर्थ तंत्र में, अब घुसपैठ दलाली है 【मुक्तक】*
*राजनीति का अर्थ तंत्र में, अब घुसपैठ दलाली है 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
घर के राजदुलारे युवा।
घर के राजदुलारे युवा।
Kuldeep mishra (KD)
मे कोई समस्या नहीं जिसका
मे कोई समस्या नहीं जिसका
Ranjeet kumar patre
गर गुलों की गुल गई
गर गुलों की गुल गई
Mahesh Tiwari 'Ayan'
मन की कामना
मन की कामना
Basant Bhagawan Roy
-- आगे बढ़ना है न ?--
-- आगे बढ़ना है न ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
व्यापार नहीं निवेश करें
व्यापार नहीं निवेश करें
Sanjay ' शून्य'
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## आ रदीफ़ ## कुछ और है
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## आ रदीफ़ ## कुछ और है
Neelam Sharma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कुछ लोगो के लिए आप महत्वपूर्ण नही है
कुछ लोगो के लिए आप महत्वपूर्ण नही है
पूर्वार्थ
वाह भई वाह,,,
वाह भई वाह,,,
Lakhan Yadav
किसी ने दिया तो था दुआ सा कुछ....
किसी ने दिया तो था दुआ सा कुछ....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"हाशिये में पड़ी नारी"
Dr. Kishan tandon kranti
मिट्टी
मिट्टी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रक्षा में हत्या / मुसाफ़िर बैठा
रक्षा में हत्या / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
मनहरण घनाक्षरी
मनहरण घनाक्षरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
वन उपवन हरित खेत क्यारी में
वन उपवन हरित खेत क्यारी में
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...