Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Oct 2022 · 1 min read

गज़ल

“गज़ल”
मुझसे जब भी मिली आहें भरती मिली
लव थे खामोश बस वो सिसकती मिली।

नींद में ख्वाब में जब भी देखा उसे
वो भी मेरी तरह ही तड़पती मिली।

नैना नम थे भरे अश्क़ आंखों में थे
एक झलक पाने को वो तरसती मिली।

गम से बोझिल था दिल थी उदासी बड़ी
रोते रोते भी वो मुझको हंसती मिली।

फिज़ाओं में ठंढक थी शीतल पवन
फिर भी शोलों के जैसे दहकती मिली।

था समंदर सवालों का अंदर छुपा
प्यार में गुफ्तगू फिर भी करती मिली।

भरके आगोश में ऐसे मदहोश थे
जैसे अम्बर से हो आज धरती मिली।

सूना मंज़र था खामोशियां हर तरफ
“कृष्णा” के संग चमन मे चहकती मिली।

के एम त्रिपाठी “कृष्णा”

Language: Hindi
5 Likes · 2 Comments · 661 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2784. *पूर्णिका*
2784. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रंजीत शुक्ल
रंजीत शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
💐प्रेम कौतुक-396💐
💐प्रेम कौतुक-396💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
Sadhavi Sonarkar
"साये"
Dr. Kishan tandon kranti
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
वेलेंटाइन डे समन्दर के बीच और प्यार करने की खोज के स्थान को
Rj Anand Prajapati
वादे खिलाफी भी कर,
वादे खिलाफी भी कर,
Mahender Singh
"दिमाग"से बनाये हुए "रिश्ते" बाजार तक चलते है!
शेखर सिंह
* भाव से भावित *
* भाव से भावित *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
औरों के धुन से क्या मतलब कोई किसी की नहीं सुनता है !
औरों के धुन से क्या मतलब कोई किसी की नहीं सुनता है !
DrLakshman Jha Parimal
मेरे तात !
मेरे तात !
Akash Yadav
*जिंदगी का क्या भरोसा, कौन-सा कब मोड़ ले 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*जिंदगी का क्या भरोसा, कौन-सा कब मोड़ ले 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
अपने हाथ,
अपने हाथ,
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
आदान-प्रदान
आदान-प्रदान
Ashwani Kumar Jaiswal
दोस्ती
दोस्ती
लक्ष्मी सिंह
" पीती गरल रही है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
लकवा
लकवा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet kumar Shukla
बे मन सा इश्क और बात बेमन का
बे मन सा इश्क और बात बेमन का
सिद्धार्थ गोरखपुरी
10) “वसीयत”
10) “वसीयत”
Sapna Arora
Migraine Treatment- A Holistic Approach
Migraine Treatment- A Holistic Approach
Shyam Sundar Subramanian
* दिल का खाली  गराज है *
* दिल का खाली गराज है *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
प्रणय 6
प्रणय 6
Ankita Patel
बरसें प्रभुता-मेह...
बरसें प्रभुता-मेह...
डॉ.सीमा अग्रवाल
इक दिन चंदा मामा बोले ,मेरी प्यारी प्यारी नानी
इक दिन चंदा मामा बोले ,मेरी प्यारी प्यारी नानी
Dr Archana Gupta
इन तन्हाइयों में तुम्हारी याद आएगी
इन तन्हाइयों में तुम्हारी याद आएगी
Ram Krishan Rastogi
अपनी हिंदी
अपनी हिंदी
Dr.Priya Soni Khare
ये जो दुनियादारी समझाते फिरते हैं,
ये जो दुनियादारी समझाते फिरते हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
तुम्हें कब ग़ैर समझा है,
तुम्हें कब ग़ैर समझा है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...