Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

गज़ल (बात करते हैं )

गज़ल (बात करते हैं )

सजाए मौत का तोहफा हमने पा लिया जिनसे
ना जाने क्यों बो अब हमसे कफ़न उधार दिलाने की बात करते हैं

हुए दुनिया से बेगाने हम जिनके इक इशारे पर
ना जाने क्यों बो अब हमसे ज़माने की बात करते हैं

दर्दे दिल मिला उनसे बो हमको प्यारा ही लगता
जख्मो पर बो हमसे अब मरहम लगाने की बात करते हैं

हमेशा साथ चलने की दिलासा हमको दी जिसने
बीते कल को हमसे बो अब चुराने की बात करते हैं

नजरें जब मिली उनसे तो चर्चा हो गयी अपनी
न जाने क्यों बो अब हमसे प्यार छुपाने की बात करते हैं

गज़ल (बात करते हैं )
मदन मोहन सक्सेना

166 Views
You may also like:
उम्मीद की किरण हैंं बड़ी जादुगर....
Dr. Alpa H. Amin
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कन्या रूपी माँ अम्बे
Kanchan Khanna
✍️सब खुदा हो गये✍️
"अशांत" शेखर
💐प्रेम की राह पर-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
# पिता ...
Chinta netam " मन "
प्यार करके।
Taj Mohammad
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
सोने की दस अँगूठियाँ….
Piyush Goel
ईमानदारी
Utsav Kumar Aarya
हमारे जीवन में "पिता" का साया
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
परी
Alok Saxena
मेरे दिल की धड़कन से तुम्हारा ख़्याल...../लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
सावन ही जाने
शेख़ जाफ़र खान
ग़ज़ल-ये चेहरा तो नूरानी है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"ममता" (तीन कुण्डलिया छन्द)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रिंगटोन
पूनम झा 'प्रथमा'
बंदर भैया
Buddha Prakash
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हम ना सोते हैं।
Taj Mohammad
कवि
Vijaykumar Gundal
लिख लेते हैं थोड़ा थोड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
मनस धरातल सरक गया है।
Saraswati Bajpai
कर्मगति
Shyam Sundar Subramanian
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
मन की वेदना....
Dr. Alpa H. Amin
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
Loading...