Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 1 min read

गज़ल (बात करते हैं )

गज़ल (बात करते हैं )

सजाए मौत का तोहफा हमने पा लिया जिनसे
ना जाने क्यों बो अब हमसे कफ़न उधार दिलाने की बात करते हैं

हुए दुनिया से बेगाने हम जिनके इक इशारे पर
ना जाने क्यों बो अब हमसे ज़माने की बात करते हैं

दर्दे दिल मिला उनसे बो हमको प्यारा ही लगता
जख्मो पर बो हमसे अब मरहम लगाने की बात करते हैं

हमेशा साथ चलने की दिलासा हमको दी जिसने
बीते कल को हमसे बो अब चुराने की बात करते हैं

नजरें जब मिली उनसे तो चर्चा हो गयी अपनी
न जाने क्यों बो अब हमसे प्यार छुपाने की बात करते हैं

गज़ल (बात करते हैं )
मदन मोहन सक्सेना

320 Views
You may also like:
भारतीय महीलाओं का महापर्व हरितालिका तीज है।
आचार्य श्रीराम पाण्डेय
|| छत्रपति शिवाजी महाराज की समुद्री लड़ाई ||
Pravesh Shinde
त्याग
श्री रमण 'श्रीपद्'
जुल्म
AMRESH KUMAR VERMA
“ पहिल सार्वजनिक भाषण ”
DrLakshman Jha Parimal
💐योगं विना मुक्ति: नः💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वक्त और दिन
DESH RAJ
गुरुर
Annu Gurjar
"राम-नाम का तेज"
Prabhudayal Raniwal
बहुत उम्मीद रखना भी
Dr fauzia Naseem shad
मेरी प्रथम शायरी (2011)-
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
सच में शक्ति अकूत (गीत)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
याद मेरी तुम्हे आती तो होगी
Ram Krishan Rastogi
हिंदी से प्यार करो
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दिल्लगी
Harshvardhan "आवारा"
मेरी वाणी
Seema 'Tu hai na'
*जल महादेव मैं तुम्हें चढ़ाने आया हूॅं (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
हो गए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दो पँक्ति दिल से
N.ksahu0007@writer
लाल में तुम ग़ुलाब लगती हो
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
काश उसने तुझे चिड़ियों जैसा पाला होता।
Manisha Manjari
सपना देखा है तो
कवि दीपक बवेजा
Daughter of Nature.
Taj Mohammad
सबतै बढिया खेलणा
विनोद सिल्ला
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस
Shekhar Chandra Mitra
कॉर्पोरेट जगत और पॉलिटिक्स
AJAY AMITABH SUMAN
परिकल्पना
संदीप सागर (चिराग)
✍️सुलूक✍️
'अशांत' शेखर
आज हिंदी रो रही है!
Anamika Singh
Loading...