Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 1 min read

गज़ल—– निर्मला कपिला उलझनो को साथ ले कर चल रहे हैं

गज़ल—– निर्मला कपिला
उलझनो को साथ ले कर चल रहे हैं
वक्त की सौगात ले कर छल रहे हैं

ढूंढते हैं नित नया सूरज जहां मे
ख्वाबों की बारात ले कर चल रहे हैं

कट ही जायेगी खुशी से ज़िन्दगी ये
हाथ मे वो हाथ लेकर चल रहे हैं

ताउम्र बन्धन न टूटे गा ये अपना
प्यार के जज़्बात ले कर चल रहे हैं

नींद अपनी आज कुछ रूठी हुयी है
पलकों पे हम रात ले कर चल रहे हैं

उनको झगडे का बहाना चाहिये था
फिर पुरानी बात ले कर चल रहे हैं

हम सफर मिलते रहे पर बेवफा से
रिश्तों के आघात ले कर चल रहे हैं

नेताओं का स्तर इतना गिर गया है
इक टका औकात ले कर चल रहे हैं

देखती है राह जनता राहतों की
काम उल्कापात ले कर चल रहे हैं

1 Comment · 371 Views
You may also like:
■ आलेख / अनुभूत और अभोव्यक्त
*प्रणय प्रभात*
“NEW ABORTION LAW IN AMERICA SNATCHES THE RIGHT OF WOMEN”
DrLakshman Jha Parimal
हाइकु
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
Book of the day: अर्चना की कुण्डलियाँ (भाग-1)
Sahityapedia
मुहावरे_गोलमाल_नामा
Anita Sharma
लड़ते रहो
Vivek Pandey
धूल जिसकी चंदन है भाल पर सजाते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
*करवाचौथ: कुछ शेर*
Ravi Prakash
इम्तिहान की घड़ी
Aditya Raj
अग्निवीर
पाण्डेय चिदानन्द
🙏स्कंदमाता🙏
पंकज कुमार कर्ण
*दूरंदेशी*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बगिया का गुलाब प्यारा...
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
तीर तुक्के
सूर्यकांत द्विवेदी
" भेड़ चाल कहूं या विडंबना "
Dr Meenu Poonia
यारों की आवारगी
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
✍️सुलूक✍️
'अशांत' शेखर
अतिथि तुम कब जाओगे
Gouri tiwari
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
कविता : 15 अगस्त
Prabhat Pandey
जब से देखा है तुमको
Ram Krishan Rastogi
इस ज़िंदगी ने हमको
Dr fauzia Naseem shad
जर्मनी से सबक लो
Shekhar Chandra Mitra
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
The Send-Off Moments
Manisha Manjari
🌸🌸व्यवहारस्य सद्य विकासस्य आवश्यकता🌸🌸
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ये नारी है नारी।
Taj Mohammad
काँटों में खिलो फूल-सम, औ दिव्य ओज लो।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हरतालिका तीज
संजीव शुक्ल 'सचिन'
गदा हनुमान जी की
AJAY AMITABH SUMAN
Loading...