Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Jul 2016 · 1 min read

गज़ल ( अहसास)

गज़ल ( अहसास)

ऐसे कुछ अहसास होते हैं हर इंसान के जीवन में
भले मुद्दत गुजर जाये , बे दिल के पास होते हैं

जो दिल कि बात सुनता है बही दिलदार है यारों
दौलत बान अक्सर तो असल में दास होते हैं

अपनापन लगे जिससे बही तो यार अपना है
आजकल तो स्वार्थ सिद्धि में रिश्ते नाश होते हैं

धर्म अब आज रुपया है ,कर्मअब आज रुपया है
जीवन केखजानें अब, क्यों सत्यानाश होते हैं

समय रहते अगर चेते तभी तो बात बनती है
बरना नरक है जीबन , पीढ़ियों में त्रास होते हैं

गज़ल ( अहसास)
मदन मोहन सक्सेना

267 Views
You may also like:
बजट का समायोजन (एक व्यंग)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नसीब
Buddha Prakash
मेरी बेटियाँ
लक्ष्मी सिंह
भारत के 'लाल'
पंकज कुमार कर्ण
नारी रखे है पालना l
अरविन्द व्यास
मानकके छडी (लोकमैथिली कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
*पेड़ के बूढ़े पत्ते (कहानी)*
Ravi Prakash
बेनाम रिश्ता
सोनम राय
✍️खुशगंवार जिंदगी जीना है✍️
'अशांत' शेखर
जिंदगी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
साँप का जहर जीवन भी देता है
राकेश कुमार राठौर
सबक
Shekhar Chandra Mitra
कलाम को सलाम
Satish Srijan
कांटों में जो फूल.....
Vijay kumar Pandey
आरक्षण का दंश
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
दिखती है व्यवहार में ,ये बात बहुत स्पष्ट
Dr Archana Gupta
ज़रा सी बात पर ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
■ #नव_वर्षाभिनंदन
*Author प्रणय प्रभात*
महाराणा
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
काँटों का दामन हँस के पकड़ लो
VINOD KUMAR CHAUHAN
देख रहा था
Mahendra Narayan
अनकहे अल्फाज़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Book of the day: धागे (काव्य संग्रह)
Sahityapedia
हक़ीक़त ने किसी ख़्वाब की
Dr fauzia Naseem shad
एक वीरांगना का अन्त !
Prabhudayal Raniwal
एक प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
ख्याल में तुम
N.ksahu0007@writer
"युद्ध की घड़ी निकट है"
Avinash Tripathi
🌈🌸तुम ख़्वाब बन गए हो🌸🌈
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...