Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Apr 2024 · 1 min read

गौर फरमाएं अर्ज किया है….!

गौर फरमाएं अर्ज किया है….!

फिर मेरी गलती की गलती से वजह न हो,
लड़ाई इश्क में हो, मुश्किल है, वजह न हो

मैं फरमाऊं दुख भरी दास्तां तुम्हे मगर लेकिन,
मैं फरमाउं तब न, जब, तुम्हे कुछ पता ना हो

फिर इश्क में टूटकर भी हंसते महफिल में हम,
अब सामने तुम और जैसे के कुछ हुआ ना हो,

हजारों दर्द को दबाए, सीने में, यही सोचता हूं मैं,
फिर अरसे बाद अब ये अहसास उसे जरा ना हो,

46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सभी भगवान को प्यारे हो जाते हैं,
सभी भगवान को प्यारे हो जाते हैं,
Manoj Mahato
आंखो ने क्या नहीं देखा ...🙏
आंखो ने क्या नहीं देखा ...🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2787. *पूर्णिका*
2787. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#मेरे_दोहे
#मेरे_दोहे
*Author प्रणय प्रभात*
"कर्ममय है जीवन"
Dr. Kishan tandon kranti
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
खुशनुमा – खुशनुमा सी लग रही है ज़मीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
* वक्त  ही वक्त  तन में रक्त था *
* वक्त ही वक्त तन में रक्त था *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
इश्क़ है तो इश्क़ का इज़हार होना चाहिए
पूर्वार्थ
प्रिंट मीडिया का आभार
प्रिंट मीडिया का आभार
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
जलन इंसान को ऐसे खा जाती है
shabina. Naaz
देश जल रहा है
देश जल रहा है
gurudeenverma198
मत खोलो मेरी जिंदगी की किताब
मत खोलो मेरी जिंदगी की किताब
Adarsh Awasthi
गोस्वामी तुलसीदास
गोस्वामी तुलसीदास
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
प्यार के बारे में क्या?
प्यार के बारे में क्या?
Otteri Selvakumar
अल्फाज़.......दिल के
अल्फाज़.......दिल के
Neeraj Agarwal
कठिन समय रहता नहीं
कठिन समय रहता नहीं
Atul "Krishn"
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आक्रोश तेरे प्रेम का
आक्रोश तेरे प्रेम का
भरत कुमार सोलंकी
तंग जिंदगी
तंग जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
प्रिय भतीजी के लिए...
प्रिय भतीजी के लिए...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
पहले वो दीवार पर नक़्शा लगाए - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
बुलंदियों पर पहुंचाएगा इकदिन मेरा हुनर मुझे,
बुलंदियों पर पहुंचाएगा इकदिन मेरा हुनर मुझे,
प्रदीप कुमार गुप्ता
शिव-शक्ति लास्य
शिव-शक्ति लास्य
ऋचा पाठक पंत
मैं अपने अधरों को मौन करूं
मैं अपने अधरों को मौन करूं
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सफलता
सफलता
Vandna Thakur
प्यासी कली
प्यासी कली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
-मंहगे हुए टमाटर जी
-मंहगे हुए टमाटर जी
Seema gupta,Alwar
11कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान
11कथा राम भगवान की, सुनो लगाकर ध्यान
Dr Archana Gupta
आईना प्यार का क्यों देखते हो
आईना प्यार का क्यों देखते हो
Vivek Pandey
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Dheerja Sharma
Loading...