Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Apr 2023 · 2 min read

गौरवपूर्ण पापबोध

वो आपको आपके गौरवपूर्ण इतिहास से गुमराह करते हैं . …………. आपको लगता है हमारे बहुत से नायक तो अपनी रक्षा भी नहीँ कर सके……… आप उनको छोड़ कर छद्म इतिहास पर भरोसा कर लेते हैं ……. परिणामस्वरूप हीन भावना से ग्रसित होकर किसी भी प्रकार की सार्थक चर्चा से कतराने लगते हैं ……. आपको भरोसा दिला दिया जाता है कि आपकी परम्पराएं अन्धविश्वास हैं…… आपको हीन भावना से ग्रसित करने के बाद आपको विश्व की दूसरी सभी परम्पराओं की महानता बताकर उनका आदर करना सिखाया जाता है …… वाह वाह क्या बात है कितने भी पाप करें कहना मना है ……. ये फिर आदत बन जाती है ….. नहीँ तो एक आध बोलने वालों का मुँह बन्द करने के लिये साम दाम दंड भेद सब अपनाया जाता है ….. बचे हुए या तो डर से या कुछ ना होने की निराशा से या तो चुप बैठ जाते हैं या इस सबसे मन उचट चुकता है …. समाज में भ्रस्टाचार है तो मौकापरस्तों की चाँदी रहती है और फिर किसी भी ईमानदार या राष्ट्रभक्त सरकार के समर्थक ऐसे लोगों की आंखो में फुन्सी की तरह खटकने लगते हैं। समर्थकों को भांति भांति के संबोधनों से प्रताड़ित करना प्रारम्भ हो जाता है, गालियाँ मिलने लगती हैं, ट्रॉलिंग होने लगती है। राष्ट्रभक्तों को चाहे वो किसी राजनीतिक विचार से कितने भी परे हों उन्हें एक राजनीतिक सोच से ग्रसित बताया जाने लगता है। देशद्रोह पूर्ण बयानबाज़ी की भर्त्सना को अपराध की श्रेणी में क्यों रख दिया गया है आज। क्या अपने राष्ट्र का मनोबल ऊँचा रखने का प्रयास करना, अपने राष्ट्र का भला सोचना,अपने राष्ट्र से प्रेम करना कोई अपराध है क्या।

आज इस बात पर थोड़ा चिन्तन कीजिये और अपने विचार रखिये। 🙈🙊🙉

Language: Hindi
Tag: लेख
5 Likes · 8 Comments · 372 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
नजरिया-ए-नील पदम्
नजरिया-ए-नील पदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
भीख
भीख
Mukesh Kumar Sonkar
3320.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3320.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Yuhi kisi ko bhul jana aasan nhi hota,
Yuhi kisi ko bhul jana aasan nhi hota,
Sakshi Tripathi
*कांच से अल्फाज़* पर समीक्षा *श्रीधर* जी द्वारा समीक्षा
*कांच से अल्फाज़* पर समीक्षा *श्रीधर* जी द्वारा समीक्षा
Surinder blackpen
जिन्होंने भारत को लूटा फैलाकर जाल
जिन्होंने भारत को लूटा फैलाकर जाल
Rakesh Panwar
नहीं उनकी बलि लो तुम
नहीं उनकी बलि लो तुम
gurudeenverma198
*मोती (बाल कविता)*
*मोती (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मैं बदलना अगर नहीं चाहूँ
मैं बदलना अगर नहीं चाहूँ
Dr fauzia Naseem shad
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Dheerja Sharma
ग़ज़ल/नज़्म: सोचता हूँ कि आग की तरहाँ खबर फ़ैलाई जाए
ग़ज़ल/नज़्म: सोचता हूँ कि आग की तरहाँ खबर फ़ैलाई जाए
अनिल कुमार
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
इसी से सद्आत्मिक -आनंदमय आकर्ष हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अजनबी बनकर आये थे हम तेरे इस शहर मे,
अजनबी बनकर आये थे हम तेरे इस शहर मे,
डी. के. निवातिया
*संवेदना*
*संवेदना*
Dr Shweta sood
*कभी तो खुली किताब सी हो जिंदगी*
*कभी तो खुली किताब सी हो जिंदगी*
Shashi kala vyas
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
dr arun kumar shastri
dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ तो पोशीदा दिल का हाल रहे
कुछ तो पोशीदा दिल का हाल रहे
Shweta Soni
(15)
(15) " वित्तं शरणं " भज ले भैया !
Kishore Nigam
वृद्धाश्रम में कुत्ता / by AFROZ ALAM
वृद्धाश्रम में कुत्ता / by AFROZ ALAM
Dr MusafiR BaithA
" हर वर्ग की चुनावी चर्चा “
Dr Meenu Poonia
Needs keep people together.
Needs keep people together.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मन मर्जी के गीत हैं,
मन मर्जी के गीत हैं,
sushil sarna
हर अदा उनकी सच्ची हुनर था बहुत।
हर अदा उनकी सच्ची हुनर था बहुत।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
1)“काग़ज़ के कोरे पन्ने चूमती कलम”
1)“काग़ज़ के कोरे पन्ने चूमती कलम”
Sapna Arora
"कहीं तुम"
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ यादें जिन्हें हम भूला नहीं सकते,
कुछ यादें जिन्हें हम भूला नहीं सकते,
लक्ष्मी सिंह
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आओ दीप जलायें
आओ दीप जलायें
डॉ. शिव लहरी
मिलना तो होगा नही अब ताउम्र
मिलना तो होगा नही अब ताउम्र
Dr Manju Saini
Loading...