Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Dec 2020 · 1 min read

【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*

गौ को गौमाता कहने वालों, इतना सा तौ गौर करो
गौमाता माता की सेवा करने से, तिल भर भी नहीं डरो
{1} घर की पहली रोटी को सब, गौमाता को दान करो
हम याचक ईश्वर देता, मानव हो न अभिमान करो
गीता ज्ञान को पढ़कर मन में, कूट-कूट स्वाभिमान भरो
हम सेवक ईश्वर मालिक, सब सत्य कर्म में ध्यान धरो
गौ को गौमाता………….
{2} भाव सभी के मन में, गौ सेवा के नित आते होंगे
तन से नहीं तो मन से , सेवा में खुद को पाते होंगे
सोचो बिन खाए दुनियाँँ में, पेट क्या भर पाते होंगे
जीवन है क्षण मात्र पहेली, करना है जो अभी करो
गौ को गौमाता ……….
{3} राधा-कृष्ण के मंदिर जा तुम, धूप-दीप जी भर कर लो
राधा-कृष्ण कृपा बरसे जो, जी भर गौ सेवा कर लो
जितने सुख गौमाता पाये, उतने श्याम से तुम वर लो
तुलसी, राधा सी गौमाता, सेवा कर सम्मान करो
गौ को गौमाता………
{4} कृष्ण तुम्हारा इष्ट देव है, कृष्ण से ये सब कह देना
गाय तेरी भूखी हैं, तुझे खेलाऊं, तू मोहे वर देना
सिसक-सिसक सुन रोये कान्हा, आंसू जरा पोंछ देना
हम नहीं रोये श्याम रुलाया, भ्रम का अब तो त्याग करो
गौ को गौमाता……….
खैमसिहं सैनी
M.A, B.Ed from University of (Raj.)
Mob.No. 9266034598

Language: Hindi
5 Likes · 1 Comment · 1868 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं ऐसा नही चाहता
मैं ऐसा नही चाहता
Rohit yadav
मुक्तक
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
आप जितने सकारात्मक सोचेंगे,
आप जितने सकारात्मक सोचेंगे,
Sidhartha Mishra
रिश्ता - दीपक नीलपदम्
रिश्ता - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
■आज का सवाल■
■आज का सवाल■
*Author प्रणय प्रभात*
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
मेरी जिंदगी में जख्म लिखे हैं बहुत
मेरी जिंदगी में जख्म लिखे हैं बहुत
Dr. Man Mohan Krishna
मन मंथन पर सुन सखे,जोर चले कब कोय
मन मंथन पर सुन सखे,जोर चले कब कोय
Dr Archana Gupta
यादों में
यादों में
Shweta Soni
नारी
नारी
Dr Parveen Thakur
"कौआ"
Dr. Kishan tandon kranti
मज़दूर
मज़दूर
Neelam Sharma
मुश्किल है कितना
मुश्किल है कितना
Swami Ganganiya
कविता तो कैमरे से भी की जाती है, पर विरले छायाकार ही यह हुनर
कविता तो कैमरे से भी की जाती है, पर विरले छायाकार ही यह हुनर
ख़ान इशरत परवेज़
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
जाने क्या-क्या कह गई, उनकी झुकी निग़ाह।
जाने क्या-क्या कह गई, उनकी झुकी निग़ाह।
sushil sarna
बढ़ी हैं दूरियाँ दिल की भले हम पास बैठे हों।
बढ़ी हैं दूरियाँ दिल की भले हम पास बैठे हों।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
Prapancha mahila mathru dinotsavam
Prapancha mahila mathru dinotsavam
jayanth kaweeshwar
हर रास्ता मुकम्मल हो जरूरी है क्या
हर रास्ता मुकम्मल हो जरूरी है क्या
कवि दीपक बवेजा
*मंजिल मिलेगी तुम अगर, अविराम चलना ठान लो 【मुक्तक】*
*मंजिल मिलेगी तुम अगर, अविराम चलना ठान लो 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
ऋतुराज (घनाक्षरी )
ऋतुराज (घनाक्षरी )
डॉक्टर रागिनी
नदी की तीव्र धारा है चले आओ चले आओ।
नदी की तीव्र धारा है चले आओ चले आओ।
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
बेवफ़ा इश्क़
बेवफ़ा इश्क़
Madhuyanka Raj
रिश्ता चाहे जो भी हो,
रिश्ता चाहे जो भी हो,
शेखर सिंह
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
वक़्त के वो निशाँ है
वक़्त के वो निशाँ है
Atul "Krishn"
🩸🔅🔅बिंदी🔅🔅🩸
🩸🔅🔅बिंदी🔅🔅🩸
Dr. Vaishali Verma
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
Aaj samna khud se kuch yun hua aankho m aanshu thy aaina ru-
Aaj samna khud se kuch yun hua aankho m aanshu thy aaina ru-
Sangeeta Sangeeta
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...