Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2021 · 1 min read

गोवर्धन की आरती (भक्ति-गीत)

गोवर्धन की आरती (भक्ति-गीत)
*******************************
आरती श्री गोवर्धन की
पेड़ पर्वत भू के धन की
(1)
पूजने सब गौ को जाएँ
धन्यता जीवन में लाएँ
पूर्ण हो इच्छा सब मन की
आरती श्री गोवर्धन की
(2)
हरापन धरती पर लाएँ
देख पर्वत को मुस्काएँ
करें जय पेड़ों-उपवन की
आरती श्री गोवर्धन की
(3)
कन्हैया ने पर्वत पूजा
बड़ा इससे कुछ कब दूजा
वंदना श्री हरि के प्रण की
आरती श्री गोवर्धन की
“””””””””””””””””””””””””””””””‘””””””””””””””””
रचयिता: रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा, रामपुर

578 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
सावन में तुम आओ पिया.............
सावन में तुम आओ पिया.............
Awadhesh Kumar Singh
हम बच्चे
हम बच्चे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आखिर उन पुरुष का,दर्द कौन समझेगा
आखिर उन पुरुष का,दर्द कौन समझेगा
पूर्वार्थ
Success rule
Success rule
Naresh Kumar Jangir
*झूठा  बिकता यूँ अख़बार है*
*झूठा बिकता यूँ अख़बार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
💐प्रेम कौतुक-424💐
💐प्रेम कौतुक-424💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*Author प्रणय प्रभात*
जन कल्याण कारिणी
जन कल्याण कारिणी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मिट्टी का बदन हो गया है
मिट्टी का बदन हो गया है
Surinder blackpen
सारे  ज़माने  बीत  गये
सारे ज़माने बीत गये
shabina. Naaz
गौरैया
गौरैया
Dr.Pratibha Prakash
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
जन अधिनायक ! मंगल दायक! भारत देश सहायक है।
Neelam Sharma
यदि तुम करोड़पति बनने का ख्वाब देखते हो तो तुम्हे इसके लिए स
यदि तुम करोड़पति बनने का ख्वाब देखते हो तो तुम्हे इसके लिए स
Rj Anand Prajapati
मात पिता को तुम भूलोगे
मात पिता को तुम भूलोगे
DrLakshman Jha Parimal
बागों में जीवन खड़ा, ले हाथों में फूल।
बागों में जीवन खड़ा, ले हाथों में फूल।
Suryakant Dwivedi
2763. *पूर्णिका*
2763. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कुप्रथाएं.......एक सच
कुप्रथाएं.......एक सच
Neeraj Agarwal
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
हंस
हंस
Dr. Seema Varma
तुम तो ठहरे परदेशी
तुम तो ठहरे परदेशी
विशाल शुक्ल
निलय निकास का नियम अडिग है
निलय निकास का नियम अडिग है
Atul "Krishn"
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
मेरी पायल की वो प्यारी सी तुम झंकार जैसे हो,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
गठबंधन INDIA
गठबंधन INDIA
Bodhisatva kastooriya
मन को आनंदित करे,
मन को आनंदित करे,
Rashmi Sanjay
वो मुझे प्यार नही करता
वो मुझे प्यार नही करता
Swami Ganganiya
शाखों के रूप सा हम बिखर जाएंगे
शाखों के रूप सा हम बिखर जाएंगे
कवि दीपक बवेजा
अहोई अष्टमी का व्रत
अहोई अष्टमी का व्रत
Harminder Kaur
"एहसासों के दामन में तुम्हारी यादों की लाश पड़ी है,
Aman Kumar Holy
है जिसका रहमो करम और प्यार है मुझ पर।
है जिसका रहमो करम और प्यार है मुझ पर।
सत्य कुमार प्रेमी
शायरी - संदीप ठाकुर
शायरी - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
Loading...