Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Mar 2023 · 1 min read

गोर चराने का मज़ा, लहसुन चटनी साथ

गोर चराने का मज़ा, लहसुन चटनी साथ
मडुआ की रोटी मिले, हमको हाथों हाथ
—महावीर उत्तरांचली

144 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
"गरीबों की दिवाली"
Yogendra Chaturwedi
होते यदि राजा - महा , होते अगर नवाब (कुंडलिया)
होते यदि राजा - महा , होते अगर नवाब (कुंडलिया)
Ravi Prakash
प्यार या प्रतिशोध में
प्यार या प्रतिशोध में
Keshav kishor Kumar
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
हैप्पी न्यू ईयर 2024
हैप्पी न्यू ईयर 2024
Shivkumar Bilagrami
क़त्ल काफ़ी हैं यूँ तो सर उसके
क़त्ल काफ़ी हैं यूँ तो सर उसके
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जागेगा अवाम
जागेगा अवाम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
उगाएँ प्रेम की फसलें, बढ़ाएँ खूब फुलवारी।
उगाएँ प्रेम की फसलें, बढ़ाएँ खूब फुलवारी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
दोहा- छवि
दोहा- छवि
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आंधी है नए गांधी
आंधी है नए गांधी
Sanjay ' शून्य'
सितारा कोई
सितारा कोई
shahab uddin shah kannauji
भ्रांति पथ
भ्रांति पथ
नवीन जोशी 'नवल'
*हीरे को परखना है,*
*हीरे को परखना है,*
नेताम आर सी
नामुमकिन
नामुमकिन
Srishty Bansal
वगिया है पुरखों की याद🙏
वगिया है पुरखों की याद🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
21-रूठ गई है क़िस्मत अपनी
21-रूठ गई है क़िस्मत अपनी
Ajay Kumar Vimal
मन का मिलन है रंगों का मेल
मन का मिलन है रंगों का मेल
Ranjeet kumar patre
अलग अलग से बोल
अलग अलग से बोल
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
फितरत
फितरत
Awadhesh Kumar Singh
गीता जयंती
गीता जयंती
Satish Srijan
इंद्रधनुषी प्रेम
इंद्रधनुषी प्रेम
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सार्थक मंथन
सार्थक मंथन
Shyam Sundar Subramanian
3375⚘ *पूर्णिका* ⚘
3375⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
बितियाँ मेरी सब बात सुण लेना।
बितियाँ मेरी सब बात सुण लेना।
Anil chobisa
कहानी ....
कहानी ....
sushil sarna
आखिरी अल्फाजों में कहा था उसने बहुत मिलेंगें तेरे जैसे
आखिरी अल्फाजों में कहा था उसने बहुत मिलेंगें तेरे जैसे
शिव प्रताप लोधी
AMC (आर्मी) का PAY PARADE 1972 -2002” {संस्मरण -फौजी दर्शन}
AMC (आर्मी) का PAY PARADE 1972 -2002” {संस्मरण -फौजी दर्शन}
DrLakshman Jha Parimal
प्यारी प्यारी सी
प्यारी प्यारी सी
SHAMA PARVEEN
कौन हो तुम
कौन हो तुम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...