Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Aug 2023 · 1 min read

हुनर है मुझमें

गैर को अपना बनाने का हुनर है मुझमें।
दिल के हुजरे में बसाने का हुनर है मुझमें।
अलबत्ता कभी पास आकर बैठो तो सही,
अपना कायल बनाने का हुनर है मुझमें।

385 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
किसी का सब्र मत आजमाओ,
किसी का सब्र मत आजमाओ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अस्तित्व की पहचान
अस्तित्व की पहचान
Kanchan Khanna
जेष्ठ अमावस माह का, वट सावित्री पर्व
जेष्ठ अमावस माह का, वट सावित्री पर्व
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
जो लिखा नहीं.....लिखने की कोशिश में हूँ...
Vishal babu (vishu)
ग़रीब
ग़रीब
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
प्यार की स्टेजे (प्रक्रिया)
प्यार की स्टेजे (प्रक्रिया)
Ram Krishan Rastogi
पुलिस बनाम लोकतंत्र (व्यंग्य) +रमेशराज
पुलिस बनाम लोकतंत्र (व्यंग्य) +रमेशराज
कवि रमेशराज
लालच का फल
लालच का फल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
काशी
काशी
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
दीपावली
दीपावली
Deepali Kalra
खुद को भी
खुद को भी
Dr fauzia Naseem shad
नयनों मे प्रेम
नयनों मे प्रेम
Kavita Chouhan
यूँ इतरा के चलना.....
यूँ इतरा के चलना.....
Prakash Chandra
फ़ितरत
फ़ितरत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बहुत-सी प्रेम कहानियाँ
बहुत-सी प्रेम कहानियाँ
पूर्वार्थ
एक पूरी सभ्यता बनाई है
एक पूरी सभ्यता बनाई है
Kunal Prashant
इस दौर में सुनना ही गुनाह है सरकार।
इस दौर में सुनना ही गुनाह है सरकार।
Dr. ADITYA BHARTI
*शिक्षक*
*शिक्षक*
Dushyant Kumar
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
कहमुकरी (मुकरिया) छंद विधान (सउदाहरण)
कहमुकरी (मुकरिया) छंद विधान (सउदाहरण)
Subhash Singhai
"सुखद अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
*तानाशाहों को जब देखा, डरते अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/गीतिका】
*तानाशाहों को जब देखा, डरते अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/गीतिका】
Ravi Prakash
तृष्णा उस मृग की भी अब मिटेगी, तुम आवाज तो दो।
तृष्णा उस मृग की भी अब मिटेगी, तुम आवाज तो दो।
Manisha Manjari
भावात्मक
भावात्मक
Surya Barman
तू छीनती है गरीब का निवाला, मैं जल जंगल जमीन का सच्चा रखवाला,
तू छीनती है गरीब का निवाला, मैं जल जंगल जमीन का सच्चा रखवाला,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
हिन्दी हाइकु- शुभ दिपावली
हिन्दी हाइकु- शुभ दिपावली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"सोज़-ए-क़ल्ब"- ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जब तू मिलती है
जब तू मिलती है
gurudeenverma198
3176.*पूर्णिका*
3176.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कोंपलें फिर फूटेंगी
कोंपलें फिर फूटेंगी
Saraswati Bajpai
Loading...