Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Mar 2024 · 1 min read

गैरों से कोई नाराजगी नहीं

गैरों से कोई नाराजगी नहीं
अपनों की बर्दाश्त नहीं,
लाख समझाया इस दिल को
मगर इसकी समझ में
कुछ आता नहीं।

71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भरमाभुत
भरमाभुत
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
** समय कीमती **
** समय कीमती **
surenderpal vaidya
*नंगा चालीसा* #रमेशराज
*नंगा चालीसा* #रमेशराज
कवि रमेशराज
देश प्रेम
देश प्रेम
Dr Parveen Thakur
एक छोर नेता खड़ा,
एक छोर नेता खड़ा,
Sanjay ' शून्य'
#शर्माजीकेशब्द
#शर्माजीकेशब्द
pravin sharma
प्रीतम के दोहे
प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
बढ़ती इच्छाएं ही फिजूल खर्च को जन्म देती है।
बढ़ती इच्छाएं ही फिजूल खर्च को जन्म देती है।
Rj Anand Prajapati
" करवा चौथ वाली मेहंदी "
Dr Meenu Poonia
कामनाओं का चक्र व्यूह
कामनाओं का चक्र व्यूह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शब्द से शब्द टकराए तो बन जाए कोई बात ,
शब्द से शब्द टकराए तो बन जाए कोई बात ,
ज्योति
कुदरत मुझको रंग दे
कुदरत मुझको रंग दे
Gurdeep Saggu
दिल किसी से
दिल किसी से
Dr fauzia Naseem shad
हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता
हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता
SPK Sachin Lodhi
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
जुनून
जुनून
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
Shweta Soni
प्रेम को भला कौन समझ पाया है
प्रेम को भला कौन समझ पाया है
Mamta Singh Devaa
विकृत संस्कार पनपती बीज
विकृत संस्कार पनपती बीज
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"चिराग"
Ekta chitrangini
पृथ्वी दिवस
पृथ्वी दिवस
Kumud Srivastava
कभी लौट गालिब देख हिंदुस्तान को क्या हुआ है,
कभी लौट गालिब देख हिंदुस्तान को क्या हुआ है,
शेखर सिंह
"बेदर्द जमाने में"
Dr. Kishan tandon kranti
2619.पूर्णिका
2619.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
*छोड़ा पीछे इंडिया, चले गए अंग्रेज (कुंडलिया)*
*छोड़ा पीछे इंडिया, चले गए अंग्रेज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
२०२३
२०२३
Neelam Sharma
#लघुकथा / #नक़ाब
#लघुकथा / #नक़ाब
*प्रणय प्रभात*
भय भव भंजक
भय भव भंजक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...