Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2023 · 1 min read

गैरों सी लगती है दुनिया

गैरों सी लगती है दुनिया
सब अपने या अपनों में सब है 🤔
देवशिवा

1 Like · 125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसी वजह से जब तुम दोस्ती निभा न पाओ
किसी वजह से जब तुम दोस्ती निभा न पाओ
ruby kumari
2579.पूर्णिका
2579.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कौन हूँ मैं ?
कौन हूँ मैं ?
पूनम झा 'प्रथमा'
*बेचारे पति जानते, महिमा अपरंपार (हास्य कुंडलिया)*
*बेचारे पति जानते, महिमा अपरंपार (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मरासिम
मरासिम
Shyam Sundar Subramanian
सावरकर ने लिखा 1857 की क्रान्ति का इतिहास
सावरकर ने लिखा 1857 की क्रान्ति का इतिहास
कवि रमेशराज
जीने की ख़्वाहिशों में
जीने की ख़्वाहिशों में
Dr fauzia Naseem shad
विजेता सूची- “सत्य की खोज” – काव्य प्रतियोगिता
विजेता सूची- “सत्य की खोज” – काव्य प्रतियोगिता
Sahityapedia
राम : लघुकथा
राम : लघुकथा
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
संगीत वह एहसास है जो वीराने स्थान को भी रंगमय कर देती है।
संगीत वह एहसास है जो वीराने स्थान को भी रंगमय कर देती है।
Rj Anand Prajapati
कहे स्वयंभू स्वयं को ,
कहे स्वयंभू स्वयं को ,
sushil sarna
"तुर्रम खान"
Dr. Kishan tandon kranti
चलो , फिर करते हैं, नामुमकिन को मुमकिन ,
चलो , फिर करते हैं, नामुमकिन को मुमकिन ,
Atul Mishra
16)”अनेक रूप माँ स्वरूप”
16)”अनेक रूप माँ स्वरूप”
Sapna Arora
ये एहतराम था मेरा कि उसकी महफ़िल में
ये एहतराम था मेरा कि उसकी महफ़िल में
Shweta Soni
जयंत (कौआ) के कथा।
जयंत (कौआ) के कथा।
Acharya Rama Nand Mandal
मेरी लाज है तेरे हाथ
मेरी लाज है तेरे हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हम तुम्हारे साथ हैं
हम तुम्हारे साथ हैं
विक्रम कुमार
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कितने दिन कितनी राते गुजर जाती है..
कितने दिन कितनी राते गुजर जाती है..
shabina. Naaz
💐Prodigy Love-24💐
💐Prodigy Love-24💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Thunderbolt
Thunderbolt
Pooja Singh
नहीं हम हैं वैसे, जो कि तरसे तुमको
नहीं हम हैं वैसे, जो कि तरसे तुमको
gurudeenverma198
Ye ayina tumhari khubsoorti nhi niharta,
Ye ayina tumhari khubsoorti nhi niharta,
Sakshi Tripathi
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ११)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ११)
Kanchan Khanna
दोजख से वास्ता है हर इक आदमी का
दोजख से वास्ता है हर इक आदमी का
सिद्धार्थ गोरखपुरी
परिश्रम
परिश्रम
ओंकार मिश्र
■आज का सवाल■
■आज का सवाल■
*Author प्रणय प्रभात*
नसीहत
नसीहत
Shivkumar Bilagrami
Loading...