Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2023 · 1 min read

“गेंम-वर्ल्ड”

“गेंम-वर्ल्ड”
सत्यमेव जयते
या फिर
लट्ठमेंव जयते?

◆प्रणय प्रभात◆

1 Like · 310 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शॉल (Shawl)
शॉल (Shawl)
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
*बरसात (पाँच दोहे)*
*बरसात (पाँच दोहे)*
Ravi Prakash
🥀 *अज्ञानी की कलम* 🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम* 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
" है वही सुरमा इस जग में ।
Shubham Pandey (S P)
प्यार,इश्क ही इँसा की रौनक है
प्यार,इश्क ही इँसा की रौनक है
'अशांत' शेखर
मैं अपने आप को समझा न पाया
मैं अपने आप को समझा न पाया
Manoj Mahato
तब गाँव हमे अपनाता है
तब गाँव हमे अपनाता है
संजय कुमार संजू
दिन तो खैर निकल ही जाते है, बस एक रात है जो कटती नहीं
दिन तो खैर निकल ही जाते है, बस एक रात है जो कटती नहीं
पूर्वार्थ
सूत जी, पुराणों के व्याख्यान कर्ता ।।
सूत जी, पुराणों के व्याख्यान कर्ता ।।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रोटी से फूले नहीं, मानव हो या मूस
रोटी से फूले नहीं, मानव हो या मूस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज़िंदगी का नशा
ज़िंदगी का नशा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेघ, वर्षा और हरियाली
मेघ, वर्षा और हरियाली
Ritu Asooja
नहीं है पूर्ण आजादी
नहीं है पूर्ण आजादी
लक्ष्मी सिंह
अक्सर लोगों को बड़ी तेजी से आगे बढ़ते देखा है मगर समय और किस्म
अक्सर लोगों को बड़ी तेजी से आगे बढ़ते देखा है मगर समय और किस्म
Radhakishan R. Mundhra
जिंदगी को हमेशा एक फूल की तरह जीना चाहिए
जिंदगी को हमेशा एक फूल की तरह जीना चाहिए
शेखर सिंह
3436⚘ *पूर्णिका* ⚘
3436⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
Shweta Soni
दो पंक्तियां
दो पंक्तियां
Vivek saswat Shukla
मानवता
मानवता
Rahul Singh
अरमानों की भीड़ में,
अरमानों की भीड़ में,
Mahendra Narayan
ना समझ आया
ना समझ आया
Dinesh Kumar Gangwar
एक मन
एक मन
Dr.Priya Soni Khare
You come in my life
You come in my life
Sakshi Tripathi
उम्र अपना निशान
उम्र अपना निशान
Dr fauzia Naseem shad
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
हाँ, क्या नहीं किया इसके लिए मैंने
gurudeenverma198
देह माटी की 'नीलम' श्वासें सभी उधार हैं।
देह माटी की 'नीलम' श्वासें सभी उधार हैं।
Neelam Sharma
"वे खेलते हैं आग से"
Dr. Kishan tandon kranti
बेरुखी इख्तियार करते हो
बेरुखी इख्तियार करते हो
shabina. Naaz
दोहा त्रयी. .
दोहा त्रयी. .
sushil sarna
रूठना मनाना
रूठना मनाना
Aman Kumar Holy
Loading...