Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2016 · 1 min read

गुरु-वन्दना

शिक्षक दिवस पर विशेष
गुरु -वन्दना
हे गुरुवर तम्हें शत-शत प्रणाम ,
तुम ज्ञानालोक सत्पथ के धाम।।हे गुरुवर………
अज्ञान तिमिर बिनाशक तुम,
दुर्बुद्धि कुमार्ग के नाशक तुम ।तुम पूर्ण इकाई जीवन की,
ईश्वर के भी आभासक तुम।
होता उद्धार जो जपते नाम ।।हे गुरुवर………
तुम करते ज्ञान से आलोकित,
सुपथदर्शक जो समयोचित।
तुम ही भविष्य के हो दृष्टा,
तुम ही सहायक जो होते बिचलित।
तुम से ही होते पूर्ण काम ।।हे गुरुवर………..
गुरु कुम्भकारवत् करते बार ,
मालीवत् भी रखते संभार।
गुरु होते शिष्य के शुभचिन्तक,
मॉवत् शिष्य को करते प्यार ।
गुरु होते हैं ईश्वर वनाम।।
हे गुरुवर…………
गुरु होते शिष्य के समालोचक,
वास्तव में होते अवलोकक।
गुरुविन सफल न जीवन होता ,
गुरु होते शिष्य के कष्टमोचक।
हे ज्ञानपुञ्ज लाखों सलाम ।।हे गुरुवर………..
गुरु की महिमा गाते कविजन,
गुरु को प्रथम मनाते सुधीजन ।कबीर सूर तुलसी ने गायी,
गुरु के निकट ही जाते भगवन्।
मत भूलना चाहे मिलजाये दाम।।हे गुरुवर………..
हम सदा गुरू को याद करें,
गुरु से ही हम फरियाद करें।
गुरु का आशिष अनमोल होता ,गुरु पर अपने हम नाज करें।
हम सदा करें ‘गुरुवे नमामि’।।हे गुरुवर……….

परमपूज्य गुरुदेव’DR.H.K.UPADHYAY के श्रीचरणों में सादर समर्पित भावाञ्जलि
???? डाँ0 तेज स्वरूप
भारद्वाज

Language: Hindi
1214 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
देश हमारा भारत प्यारा
देश हमारा भारत प्यारा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कौन कहता है कि नदी सागर में
कौन कहता है कि नदी सागर में
Anil Mishra Prahari
आप किससे प्यार करते हैं?
आप किससे प्यार करते हैं?
Otteri Selvakumar
वृक्ष लगाओ,
वृक्ष लगाओ,
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
निर्मेष के दोहे
निर्मेष के दोहे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कहां  गए  वे   खद्दर  धारी  आंसू   सदा   बहाने  वाले।
कहां गए वे खद्दर धारी आंसू सदा बहाने वाले।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
परशुराम का परशु खरीदो,
परशुराम का परशु खरीदो,
Satish Srijan
■ स्वयं पर संयम लाभप्रद।
■ स्वयं पर संयम लाभप्रद।
*Author प्रणय प्रभात*
रोज रात जिन्दगी
रोज रात जिन्दगी
Ragini Kumari
माँ शारदे
माँ शारदे
Bodhisatva kastooriya
गुम है
गुम है
Punam Pande
शाकाहार बनाम धर्म
शाकाहार बनाम धर्म
मनोज कर्ण
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
वो नई नारी है
वो नई नारी है
Kavita Chouhan
पितृ स्तुति
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
तेरे लहजे पर यह कोरी किताब कुछ तो है |
तेरे लहजे पर यह कोरी किताब कुछ तो है |
कवि दीपक बवेजा
मौसम मौसम बदल गया
मौसम मौसम बदल गया
The_dk_poetry
उम्मीद और हौंसला, हमेशा बनाये रखना
उम्मीद और हौंसला, हमेशा बनाये रखना
gurudeenverma198
दोजख से वास्ता है हर इक आदमी का
दोजख से वास्ता है हर इक आदमी का
सिद्धार्थ गोरखपुरी
"ताकीद"
Dr. Kishan tandon kranti
ओम साईं रक्षक शरणम देवा
ओम साईं रक्षक शरणम देवा
Sidhartha Mishra
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
गुप्तरत्न
भरोसा खुद पर
भरोसा खुद पर
Mukesh Kumar Sonkar
विचार
विचार
Jyoti Khari
अम्बे तेरा दर्शन
अम्बे तेरा दर्शन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*चंद्रयान ने छू लिया, दक्षिण ध्रुव में चॉंद*
*चंद्रयान ने छू लिया, दक्षिण ध्रुव में चॉंद*
Ravi Prakash
अयाग हूँ मैं
अयाग हूँ मैं
Mamta Rani
राहत के दीए
राहत के दीए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
क्यूँ करते हो तुम हम से हिसाब किताब......
क्यूँ करते हो तुम हम से हिसाब किताब......
shabina. Naaz
स्त्रियों में ईश्वर, स्त्रियों का ताड़न
स्त्रियों में ईश्वर, स्त्रियों का ताड़न
Dr MusafiR BaithA
Loading...