Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Nov 2023 · 1 min read

गुरुपूर्व प्रकाश उत्सव बेला है आई

गुरुपूर्व प्रकाश उत्सव बेला है आई
***************************

गुरुपूर्व प्रकाश उत्सव बेला है आई,
साध संगत को सवा लाख बधाई।

सर्वत्र व्याप्त ईश्वर सर्वशक्तिमान है,
लोक सेवा की सदा शिक्षा सिखाई।

नानक की वाणी वैराग्य से भरी है,
भक्ति और ज्ञान से भरपूर भरपाई।

गुरु का सिमरण है मन को टिकाए,
मेहनत और ईमानदारी की कमाई।

लोभ लालच की सदा वृति बुरी है,
सदा खुश रहने की तरकीब बताई।

तेरह ही तेरह खुशियों का खजाना,
जन लोक सेवा में खुद की भलाई।

रब का बंदा मनसीरत गुरु उपासक,
बुरे कर्म की कभी होती नहीं बड़ाई।
***************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेडी राओ वाली (कैथल)

1 Like · 186 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
यहां कोई बेरोजगार नहीं हर कोई अपना पक्ष मजबूत करने में लगा ह
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
खयालात( कविता )
खयालात( कविता )
Monika Yadav (Rachina)
GOD BLESS EVERYONE
GOD BLESS EVERYONE
Baldev Chauhan
*माता (कुंडलिया)*
*माता (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बहुत उम्मीदें थीं अपनी, मेरा कोई साथ दे देगा !
बहुत उम्मीदें थीं अपनी, मेरा कोई साथ दे देगा !
DrLakshman Jha Parimal
मौत पर लिखे अशआर
मौत पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मंगल मूरत
मंगल मूरत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कभी जब नैन  मतवारे  किसी से चार होते हैं
कभी जब नैन मतवारे किसी से चार होते हैं
Dr Archana Gupta
गिरते-गिरते गिर गया, जग में यूँ इंसान ।
गिरते-गिरते गिर गया, जग में यूँ इंसान ।
Arvind trivedi
3214.*पूर्णिका*
3214.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जरूरत
जरूरत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सही कहो तो तुम्हे झूटा लगता है
सही कहो तो तुम्हे झूटा लगता है
Rituraj shivem verma
One fails forward toward success - Charles Kettering
One fails forward toward success - Charles Kettering
पूर्वार्थ
सावन
सावन
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*चाँद को भी क़बूल है*
*चाँद को भी क़बूल है*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
निजी विद्यालयों का हाल
निजी विद्यालयों का हाल
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
चाहता है जो
चाहता है जो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
फूल कुदरत का उपहार
फूल कुदरत का उपहार
Harish Chandra Pande
यकीन नहीं होता
यकीन नहीं होता
Dr. Rajeev Jain
वह लोग जिनके रास्ते कई होते हैं......
वह लोग जिनके रास्ते कई होते हैं......
कवि दीपक बवेजा
पिया मिलन की आस
पिया मिलन की आस
Kanchan Khanna
गाली भी बुरी नहीं,
गाली भी बुरी नहीं,
*Author प्रणय प्रभात*
बंदूक से अत्यंत ज़्यादा विचार घातक होते हैं,
बंदूक से अत्यंत ज़्यादा विचार घातक होते हैं,
शेखर सिंह
♥️पिता♥️
♥️पिता♥️
Vandna thakur
जन जन में खींचतान
जन जन में खींचतान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दास्तान-ए- वेलेंटाइन
दास्तान-ए- वेलेंटाइन
Dr. Mahesh Kumawat
दुकान मे बैठने का मज़ा
दुकान मे बैठने का मज़ा
Vansh Agarwal
भक्तिभाव
भक्तिभाव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तू ही मेरी लाड़ली
तू ही मेरी लाड़ली
gurudeenverma198
Loading...