Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2022 · 2 min read

“गुरुनानक जयंती 08 नवम्बर 2022 पर विशेष” : आदर एवं श्रद्धा के प्रतीक -गुरुनानक देव

हमारे देश की विशेषता है कि यहाँ विभिन्न धर्मों के अनुयायी साथ- साथ एवं प्रेम पूर्वक रहते हैं | सभी धर्मों में बहुत से महापुरुष हुए हैं ,जिन्होंने अपनी वाणी से भाई- चारा एवं एकता का सन्देश दिया है | ऐसे ही एक महापुरुष थे गुरुनानक देव जिन्हें सिक्खों का प्रथम गुरु कहा जाता है | गुरुनानक देव के जन्मदिवस को प्रकाश पर्व के रूप में मनाया जाता है |
गुरुनानक देव का जन्म 1469 ईस्वी में कार्तिक पूर्णिमा के दिन लाहौर से कुछ दूर तलवंडी नामक गाँव में पिता कालुचंद व माता तृप्ता देवी के घर, खत्री कुल में हुआ था | पाकिस्तान स्थित तलवंडी को आज ननकाना साहिब के नाम से जाना जाता है |
कहा जाता है कि नानक देव जन्म के समय रोने के बजाय हँस रहे थे |इनकी जन्म पत्री देखकर एक ज्योतिषी ने कहा था कि यह बालक बड़ा प्रतापी होगा |सारा संसार इसके चरणों में सिर झुकाएगा | और समयांतर में यह भविष्यवाणी सच होकर भी रही |
नानकदेव बचपन से ही साधु संतों की संगत में बैठते थे और उनसे बातें करते रहते थे |उनका मन पढ़ने लिखने में कम ही लगता था |पिता उनका मन व्यापार में लगाना चाहते थे लेकिन वह सामान खरीदने हेतु दिए धन को साधु संतों के भोजन आदि पर खर्च कर दिया करते थे|
बालपन में ही पिता ने इनका विवाह सुलक्खनी नामक कन्या से किया| उनसे इनके दो पुत्र श्रीचंद व लख्मीदास भी हुए परन्तु इनका मन गृहस्थी में न लगा | समय के साथ इनकी धार्मिक प्रवृति बढ़ती चली गयी और उन्होंने घर त्याग दिया | तव उन्हें समझाने के लिए पिता ने मरदाना नमक एक मुस्लिम गवैये को उनके पास भेजा ,पर वह स्वयं नानक के उपदेशों से प्रभावित होकर उनका ही शिष्य बन गया था |
गुरुनानक जगह- जगह जाकर उपदेश देते थे कि ईश्वर एक है और सभी को उसी ईश्वर ने बनाया है| हिन्दू मुसलमान सभी एक ही परमात्मा की संतान हैं | उसके लिए सब बराबर हैं | ईश्वर सत्य रूप है |अच्छे काम करो जिससे परमात्मा के दरबार में लज्जित न होना पड़े |
गुरुनानक देव सिक्ख पंथ के प्रथम गुरु कहलाते हैं | उनके पश्चात नौ गुरु और हुए हैं | गुरुनानक देव मक्का ,मदीना ,बग़दाद, काबुल ,कंधार आदि स्थानों पर भी गए | गुरु नानक देव अपनी यात्रा के अंतिम दौर में करतारपुर में भी रहे |यहाँ उन्होंने लहना नामक बालक को अपना शिष्य बनाया जो की आगे चलकर गुरु अंगद देव के नाम से उनकी गद्दी का उत्तराधिकारी हुआ | गुरुनानक देव का निधन 1539 ईस्वी में लगभग 70 वर्ष की आयु में हुआ |
गुरुनानक देव अपना कोई पृथक संप्रदाय नहीं चलाना चाहते थे | उनका परमात्मा में अटल विश्वास था | गुरुनानक देव की वाणी का पाठ अत्यंत आदर व श्रद्धा के साथ किया जाता है और सदैव किया जाता रहेगा |
सत्य भूषण शर्मा , प्रवक्ता -पत्रकार ,उदयपुर (राजस्थान )

Language: Hindi
1 Like · 157 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जय श्री राम
जय श्री राम
Er.Navaneet R Shandily
नसीहत
नसीहत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
उस दिन
उस दिन
Shweta Soni
मार्शल आर्ट
मार्शल आर्ट
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रिटायमेंट (शब्द चित्र)
रिटायमेंट (शब्द चित्र)
Suryakant Dwivedi
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
स्वयं का न उपहास करो तुम , स्वाभिमान की राह वरो तुम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*अपवित्रता का दाग (मुक्तक)*
*अपवित्रता का दाग (मुक्तक)*
Rambali Mishra
हिरनी जैसी जब चले ,
हिरनी जैसी जब चले ,
sushil sarna
पाती प्रभु को
पाती प्रभु को
Saraswati Bajpai
मन मेरा गाँव गाँव न होना मुझे शहर
मन मेरा गाँव गाँव न होना मुझे शहर
Rekha Drolia
कहाँ जाऊँ....?
कहाँ जाऊँ....?
Kanchan Khanna
शीर्षक – शुष्क जीवन
शीर्षक – शुष्क जीवन
Manju sagar
Gairo ko sawarne me khuch aise
Gairo ko sawarne me khuch aise
Sakshi Tripathi
चाहत
चाहत
Shyam Sundar Subramanian
इरशा
इरशा
ओंकार मिश्र
गीता, कुरान ,बाईबल, गुरु ग्रंथ साहिब
गीता, कुरान ,बाईबल, गुरु ग्रंथ साहिब
Harminder Kaur
'Memories some sweet and some sour..'
'Memories some sweet and some sour..'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
वापस
वापस
Harish Srivastava
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
हुनरमंद लोग तिरस्कृत क्यों
Mahender Singh
बात बनती हो जहाँ,  बात बनाए रखिए ।
बात बनती हो जहाँ, बात बनाए रखिए ।
Rajesh Tiwari
हसीन तेरी सूरत से मुझको मतलब क्या है
हसीन तेरी सूरत से मुझको मतलब क्या है
gurudeenverma198
*चलो अयोध्या रामलला के, दर्शन करने चलते हैं (भक्ति गीत)*
*चलो अयोध्या रामलला के, दर्शन करने चलते हैं (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
#जिन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया#
#जिन्दगी ने मुझको जीना सिखा दिया#
rubichetanshukla 781
#अमृत_पर्व
#अमृत_पर्व
*Author प्रणय प्रभात*
*** मां की यादें ***
*** मां की यादें ***
Chunnu Lal Gupta
आप कैसा कमाल करते हो
आप कैसा कमाल करते हो
Dr fauzia Naseem shad
इतना कभी ना खींचिए कि
इतना कभी ना खींचिए कि
Paras Nath Jha
उसे तो देख के ही दिल मेरा बहकता है।
उसे तो देख के ही दिल मेरा बहकता है।
सत्य कुमार प्रेमी
रामराज्य
रामराज्य
कार्तिक नितिन शर्मा
शर्द एहसासों को एक सहारा मिल गया
शर्द एहसासों को एक सहारा मिल गया
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Loading...