Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2022 · 1 min read

गुमनाम मुहब्बत का आशिक

आया सुध-बुध खोकर दिल्ली,
सफर ट्रेन का एक दिवस,
बगल सीट पर बैठी कमसिन,
उम्र थी उसकी बीस बरस,
घुंघराली काली जुल्फें उसकी,
नैन नशीली मतवाली,
ओठ अमावट का टुकड़ा-सा,
गुलबदन गठीली शर्मीली,
टॉप-जींस में मॉडल दिखती,
छरहरा बदन कमसिन काया,
अपना सुध-बुध खो बैठा मैं,
देख प्रभु की ऐसी माया,
मेरा दिल धक् करता था,
नैन से जब मिलते थे नैन,
अपलक उसी को देखूंँ,
इधर-उधर न आए चैन,
नैन-नैन में रात कटी,
पौ फटते मैं उठ बैठा,
मंद-मंद मुस्काई जब वो,
अपना दिल मैं दे बैठा,
मन ही मन मैं लव यू कहता,
उसको कुछ न कह पाया,
गुमनाम मुहब्बत का मैं आशिक,
पहली बार दिल्ली आया।

मौलिक व स्वरचित
©®श्री रमण
बेगूसराय (बिहार)

7 Likes · 8 Comments · 254 Views
You may also like:
उसकी आदत में रह गया कोई
Dr fauzia Naseem shad
याद पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
कर्म का मर्म
Pooja Singh
प्यार
Anamika Singh
बाबू जी
Anoop Sonsi
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
गीत
शेख़ जाफ़र खान
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
बेरूखी
Anamika Singh
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
कोई भी
Dr fauzia Naseem shad
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
*"पिता"*
Shashi kala vyas
गीत
शेख़ जाफ़र खान
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
पिता की याद
Meenakshi Nagar
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Shankar J aanjna
Loading...