Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jun 2018 · 1 min read

गुफ्तगू वो रात की

गुफ्तगू वो रात की
पहली मुलाकात की
छुअन वो हवाओं की
मधुर तेरे साथ की
बेसाख्ता पुकारतीं रहीं
मुझे वो एक आस सी
वो वादियाँ गुलाब की
मोहब्बतों की छाँव सी
मस्त रात चाँद की
ख्वाब औ सबाब की
मुझको ख्वाब में मिली
हुस्न परी जमाल की
आह क्या अँदाज था
गालों पर गुलाब था
खुश्बूओं से घिरी हुई
कली वो एक रात की
उफ्फ क्या गजब वो थी
नहा कर निकल रही
रोशनी हिजाब की
निखर गई सँवर गई
सूरत ए आफताब की
हसीन जादुई अजब
था वो मंजर दिलनशीं
जब वो मेरे साथ थी।
साँसों में रची बसी
मोहब्बतों की वो चाह सी।
निधि भार्गव।

Language: Hindi
476 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सच तो तेरा मेरा प्यार हैं।
सच तो तेरा मेरा प्यार हैं।
Neeraj Agarwal
काजल की महीन रेखा
काजल की महीन रेखा
Awadhesh Singh
शौक करने की उम्र मे
शौक करने की उम्र मे
KAJAL NAGAR
पुस्तक तो पुस्तक रहा, पाठक हुए महान।
पुस्तक तो पुस्तक रहा, पाठक हुए महान।
Manoj Mahato
World Earth Day
World Earth Day
Tushar Jagawat
प्यार ~ व्यापार
प्यार ~ व्यापार
The_dk_poetry
2673.*पूर्णिका*
2673.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Dr Archana Gupta
चरित्र राम है
चरित्र राम है
Sanjay ' शून्य'
उसको फिर उससा
उसको फिर उससा
Dr fauzia Naseem shad
निष्ठुर संवेदना
निष्ठुर संवेदना
Alok Saxena
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
मन अपने बसाओ तो
मन अपने बसाओ तो
surenderpal vaidya
कोई होटल की बिखरी ओस में भींग रहा है
कोई होटल की बिखरी ओस में भींग रहा है
Akash Yadav
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
कम कमाना कम ही खाना, कम बचाना दोस्तो!
सत्य कुमार प्रेमी
मै ज़िन्दगी के उस दौर से गुज़र रहा हूँ जहाँ मेरे हालात और मै
मै ज़िन्दगी के उस दौर से गुज़र रहा हूँ जहाँ मेरे हालात और मै
पूर्वार्थ
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
साकार नहीं होता है
साकार नहीं होता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
*सपने जैसी जानिए, जीवन की हर बात (कुंडलिया)*
*सपने जैसी जानिए, जीवन की हर बात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*प्रणय प्रभात*
जीनते भी होती है
जीनते भी होती है
SHAMA PARVEEN
कहो जय भीम
कहो जय भीम
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
मुझको मेरी लत लगी है!!!
मुझको मेरी लत लगी है!!!
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तेरी ख़ुशबू
तेरी ख़ुशबू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
दलितों, वंचितों की मुक्ति का आह्वान करती हैं अजय यतीश की कविताएँ/ आनंद प्रवीण
दलितों, वंचितों की मुक्ति का आह्वान करती हैं अजय यतीश की कविताएँ/ आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
"अन्धेरे"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरे भी दिवाने है
मेरे भी दिवाने है
Pratibha Pandey
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shweta Soni
हे कहाँ मुश्किलें खुद की
हे कहाँ मुश्किलें खुद की
Swami Ganganiya
Loading...