Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Dec 2023 · 1 min read

गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।

गुफ्तगू तुझसे करनी बहुत ज़रूरी है ।
बिन तेरे ये जिंदगी भी अधूरी है।
कैसे कटती है ये सर्द रातें बिन तेरे।
अब तो आजा मिलना बहुत ज़रूरी है।।

Phool gufran

138 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
ह्रदय जब स्वच्छता से ओतप्रोत होगा।
Sahil Ahmad
परिश्रम
परिश्रम
Neeraj Agarwal
इसे कहते हैं
इसे कहते हैं
*Author प्रणय प्रभात*
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
मैं नारी हूँ, मैं जननी हूँ
Awadhesh Kumar Singh
पहाड़ का अस्तित्व - पहाड़ की नारी
पहाड़ का अस्तित्व - पहाड़ की नारी
श्याम सिंह बिष्ट
वो दिन भी क्या दिन थे
वो दिन भी क्या दिन थे
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
पल परिवर्तन
पल परिवर्तन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Ek ladki udas hoti hai
Ek ladki udas hoti hai
Sakshi Tripathi
जब कोई आपसे बहुत बोलने वाला व्यक्ति
जब कोई आपसे बहुत बोलने वाला व्यक्ति
पूर्वार्थ
किभी भी, किसी भी रूप में, किसी भी वजह से,
किभी भी, किसी भी रूप में, किसी भी वजह से,
शोभा कुमारी
मेरा देश महान
मेरा देश महान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रंग रंगीली होली आई
रंग रंगीली होली आई
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
"पत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
चन्द फ़ितरती दोहे
चन्द फ़ितरती दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हंसते ज़ख्म
हंसते ज़ख्म
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
नेताम आर सी
****शिरोमणि****
****शिरोमणि****
प्रेमदास वसु सुरेखा
हास्य कथा : एक इंटरव्यू
हास्य कथा : एक इंटरव्यू
Ravi Prakash
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
मैं इक रोज़ जब सुबह सुबह उठूं
ruby kumari
इतना तो आना चाहिए
इतना तो आना चाहिए
Anil Mishra Prahari
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
मैं तुम्हारे बारे में नहीं सोचूँ,
Sukoon
नागिन
नागिन
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
2909.*पूर्णिका*
2909.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुहब्बत भी मिल जाती
मुहब्बत भी मिल जाती
Buddha Prakash
पहाड़ पर कविता
पहाड़ पर कविता
Brijpal Singh
चिकने घड़े
चिकने घड़े
ओनिका सेतिया 'अनु '
मेरी हर लूट में वो तलबगार था,
मेरी हर लूट में वो तलबगार था,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
Ashwini sharma
ग़ज़ल _रखोगे कब तलक जिंदा....
ग़ज़ल _रखोगे कब तलक जिंदा....
शायर देव मेहरानियां
Loading...