Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Oct 2023 · 2 min read

गुत्थियों का हल आसान नही …..

जीवन रहस्मय है इनकी गुत्थियां भी इन्ही की तरह रहस्मयी है प्रत्येक समस्या का निदान या गुत्थियों का हल एक नई प्रश्न के गुत्थियों को बुनता है जो देर -सबेर सुलझाने वाले के समकक्ष आ ही जाता है । ऐसा नही है कि यह गांठे इतनी अधिक हो जाये कि दिमाग भूसा हो जाये ,बिल्कुल नही यह दिमाग की नशों को केंद्रित कर उन्हें टटोल कर एक नई गुत्थियां बना लेती है । इनका उपाय यह हो सकता है कि इन्हें साथ लेकर धीरे -धीरे बारी -बारी से खोला जाए और इन पर मंथन नही तुरन्त ही प्रहार किया जाए तो शायद यह मकड़ी की जाले टूट जाये , अन्यथा मंथन से एक नई रहस्मयी गुत्थियां जन्म ले लेगी ।

‘गुत्थियों का निर्माण हमारे बार -बार इच्छाओं की पूर्ति और नई इच्छाओं के जन्म के बीच का प्रोसेस है ‘ और इस रहस्मयी जीवन के भांति इसमें पानी के अनुरूप बुल -बुला उठना लाजमी है ।

रहस्मयी जीवन की प्रक्रिया कैसी होगी ,ये खुले और छोटे चंक्षु से एवं मानव मस्तिष्क से पता करना लगभग एक नई गुत्थी है एक छोटे से पुरुष स्पर्म के अणु और महिला स्पर्म के अणु ने अपने साहचर्य से इस धरा पर विवेकशील और बलशाली जीव की उत्पत्ति की जो यह समझ के परे हैं कि कैसे उस स्पर्म ने मानवों में किडनी,गुर्दा,हृदय, और मस्तिष्क का निर्माण किया जबकि वह एक चिप-चिपा तरल पदार्थ है यह गुत्थियां नही है तो क्या है ।

अनेको गुत्थियां की श्रृंखला में मनुष्यों के द्वारा निर्मित समाजिक नियमो और प्रथाओं की गुत्थी तो सर्वोपरि है जिनसे केवल नई-नई गुत्थियो के रेशे ही जन्म लेते हैं और मनुष्य के जीवन की प्रांसगिकता पर प्रश्नचिन्ह लगाते हैं मजे की बात है मनुष्य की जीवन की प्रासंगिकता क्या है स्वयं में एक गुत्थी है ।

अतः हर एक समस्या गुत्थियों के अनुकूल है जिसका समाधान एक नई गुत्थियों को जन्म देता है यह जीवन के उस रहस्मयी सत्यों के अनुरूप है जिसका प्रत्येक उत्तर स्वयं में एक प्रश्न है ।

–rohit …

Language: Hindi
120 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* मंजिल आ जाती है पास *
* मंजिल आ जाती है पास *
surenderpal vaidya
हिन्दी दोहा लाड़ली
हिन्दी दोहा लाड़ली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
***
*** " तुम आंखें बंद कर लेना.....!!! " ***
VEDANTA PATEL
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
Shweta Soni
😢 #लघुकथा / #फ़रमान
😢 #लघुकथा / #फ़रमान
*Author प्रणय प्रभात*
विनाश की जड़ 'क्रोध' ।
विनाश की जड़ 'क्रोध' ।
Buddha Prakash
ए मेरे चांद ! घर जल्दी से आ जाना
ए मेरे चांद ! घर जल्दी से आ जाना
Ram Krishan Rastogi
"कुछ अनकही"
Ekta chitrangini
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हे अल्लाह मेरे परवरदिगार
हे अल्लाह मेरे परवरदिगार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक पेड़ ही तो है जो सभी प्राणियो को छाँव देता है,
एक पेड़ ही तो है जो सभी प्राणियो को छाँव देता है,
Shubham Pandey (S P)
बुद्ध पूर्णिमा के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं
बुद्ध पूर्णिमा के पावन पर्व पर आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं
डा गजैसिह कर्दम
"धोखा"
Dr. Kishan tandon kranti
क्यों करते हो गुरुर अपने इस चार दिन के ठाठ पर
क्यों करते हो गुरुर अपने इस चार दिन के ठाठ पर
Sandeep Kumar
हाइकु - 1
हाइकु - 1
Sandeep Pande
जिन्दगी शम्मा सी रोशन हो खुदाया मेरे
जिन्दगी शम्मा सी रोशन हो खुदाया मेरे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
यदि समुद्र का पानी खारा न होता।
यदि समुद्र का पानी खारा न होता।
Rj Anand Prajapati
"राहे-मुहब्बत" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
उम्मीद और हौंसला, हमेशा बनाये रखना
उम्मीद और हौंसला, हमेशा बनाये रखना
gurudeenverma198
हमें भी देख जिंदगी,पड़े हैं तेरी राहों में।
हमें भी देख जिंदगी,पड़े हैं तेरी राहों में।
Surinder blackpen
किस क़दर
किस क़दर
हिमांशु Kulshrestha
मुझे याद🤦 आती है
मुझे याद🤦 आती है
डॉ० रोहित कौशिक
धोखा
धोखा
Paras Nath Jha
गिनती
गिनती
Dr. Pradeep Kumar Sharma
23/111.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/111.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फूल सूखी डाल पर  खिलते  नहीं  कचनार  के
फूल सूखी डाल पर खिलते नहीं कचनार के
Anil Mishra Prahari
राम विवाह कि मेहंदी
राम विवाह कि मेहंदी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
💐प्रेम कौतुक-315💐
💐प्रेम कौतुक-315💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*अलविदा तेईस*
*अलविदा तेईस*
Shashi kala vyas
विषधर
विषधर
Rajesh
Loading...