Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

गुण क्या गाऊँ मैं कनहल के

पीले फूल लगें मखमल से
गुण क्या गाऊँ मैं कनहल के
भीनी भीनी खुशबू प्यारी
दिल झूमे जब जाऊँ क्यारी
तोडूँ फूल लटकर डाली
देख मुझे चिल्लाता माली
पवन चले हल्के हल्के
पीले फूल लगें मखमल से
माँ मेरी जब मन्दिर जाए
पीले पीले फूल चढ़ाये
उन फूलों से हार बनाते
खुशी खुशी त्यौहार मनाते
वे प्यारे दिन बचपन के
पीले फूल लगें मखमल से
कनहल की डाली झूली है
फूलों ने क्यारी छू ली है
धूप छाँह की सीढ़ी चढ़ते
हरे भरे पत्तों पर पड़ते
छीटें शुभ निर्मल जल के
पीले फूल लगें मखमल से
गुण क्या गाऊँ मैं कनहल के

Language: Hindi
Tag: गीत
324 Views
You may also like:
"बीते दिनों से कुछ खास हुआ है"
Lohit Tamta
"क़तरा"
Ajit Kumar "Karn"
माँ ब्रह्मचारिणी
Vandana Namdev
"शब्दकोश में शब्द नहीं हैं, इसका वर्णन रहने दो"
Kumar Akhilesh
रसीला आम
Buddha Prakash
नहीं, अब ऐसा नहीं होगा
gurudeenverma198
मंजिल की उड़ान
AMRESH KUMAR VERMA
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
मालूम था।
Taj Mohammad
✍️डार्क इमेज...!✍️
'अशांत' शेखर
मैं फिर आऊँगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल की चाहत
कवि दीपक बवेजा
धार्मिक आस्था एवं धार्मिक उन्माद !
Shyam Sundar Subramanian
चौंक पड़ती हैं सदियाॅं..
Rashmi Sanjay
"बारिश संग बदरिया"
Dr Meenu Poonia
* साहित्य और सृजनकारिता *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संसद को जाती सड़कें
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
“माटी ” तेरे रूप अनेक
DESH RAJ
नवनिर्माण करें राष्ट्र का, करें श्रेष्ठ अपना अर्पण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
क्या प्रात है !
Saraswati Bajpai
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग)
दुष्यन्त 'बाबा'
गुलिस्तां
Alok Saxena
बापू का सत्य के साथ प्रयोग
Pooja Singh
रोना
Dr.S.P. Gautam
*विद्यालय की रिक्शा आई (बाल कविता)*
Ravi Prakash
आईना सच अगर दिखाता है
Dr fauzia Naseem shad
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आख़िरी ख्वाहिश
Shekhar Chandra Mitra
जर्जर विद्यालय भवन की पीड़ा
Rajesh Kumar Arjun
सारे यार देख लिए..
Dr. Meenakshi Sharma
Loading...