Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

गुण क्या गाऊँ मैं कनहल के

पीले फूल लगें मखमल से
गुण क्या गाऊँ मैं कनहल के
भीनी भीनी खुशबू प्यारी
दिल झूमे जब जाऊँ क्यारी
तोडूँ फूल लटकर डाली
देख मुझे चिल्लाता माली
पवन चले हल्के हल्के
पीले फूल लगें मखमल से
माँ मेरी जब मन्दिर जाए
पीले पीले फूल चढ़ाये
उन फूलों से हार बनाते
खुशी खुशी त्यौहार मनाते
वे प्यारे दिन बचपन के
पीले फूल लगें मखमल से
कनहल की डाली झूली है
फूलों ने क्यारी छू ली है
धूप छाँह की सीढ़ी चढ़ते
हरे भरे पत्तों पर पड़ते
छीटें शुभ निर्मल जल के
पीले फूल लगें मखमल से
गुण क्या गाऊँ मैं कनहल के

Language: Hindi
Tag: गीत
446 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
Kailash singh
'मेरे बिना'
'मेरे बिना'
नेहा आज़ाद
2974.*पूर्णिका*
2974.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
■ आज का चिंतन...
■ आज का चिंतन...
*Author प्रणय प्रभात*
डॉ. अम्बेडकर ने ऐसे लड़ा प्रथम चुनाव
डॉ. अम्बेडकर ने ऐसे लड़ा प्रथम चुनाव
कवि रमेशराज
भगतसिंह से सवाल
भगतसिंह से सवाल
Shekhar Chandra Mitra
एक तुम्हारे होने से....!!!
एक तुम्हारे होने से....!!!
Kanchan Khanna
शीर्षक:
शीर्षक: "ओ माँ"
MSW Sunil SainiCENA
"परिवर्तन"
Dr. Kishan tandon kranti
मार मुदई के रे
मार मुदई के रे
जय लगन कुमार हैप्पी
!! राम जीवित रहे !!
!! राम जीवित रहे !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
भौतिकवादी
भौतिकवादी
लक्ष्मी सिंह
मैं कहना भी चाहूं उनसे तो कह नहीं सकता
मैं कहना भी चाहूं उनसे तो कह नहीं सकता
Mr.Aksharjeet
*मैंने देखा है * ( 18 of 25 )
*मैंने देखा है * ( 18 of 25 )
Kshma Urmila
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
*आत्मा की वास्तविक स्थिति*
Shashi kala vyas
अंतरिक्ष 🌒☀️
अंतरिक्ष 🌒☀️
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Job can change your vegetables.
Job can change your vegetables.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जीवन में
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
बेकारी का सवाल
बेकारी का सवाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अहिल्या
अहिल्या
Dr.Priya Soni Khare
साजन आने वाले हैं
साजन आने वाले हैं
Satish Srijan
वो राह देखती होगी
वो राह देखती होगी
Kavita Chouhan
कभी रहे पूजा योग्य जो,
कभी रहे पूजा योग्य जो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोस्ती
दोस्ती
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"चाह"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*जब से हुआ चिकनगुनिया है, नर्क समझ लो आया (हिंदी गजल)*
*जब से हुआ चिकनगुनिया है, नर्क समझ लो आया (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
फितरत
फितरत
Srishty Bansal
नारी सम्मान
नारी सम्मान
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
प्रेम - एक लेख
प्रेम - एक लेख
बदनाम बनारसी
Loading...