Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2017 · 1 min read

गुज़रता रहा लम्हा-लम्हा….

गुज़रता रहा लम्हा-लम्हा
ढलता रहा लम्हा-लम्हा
ज़िंदगी चाहे थम सी गई थी
चलता रहा लम्हा-लम्हा
समय के साथ चलता रहा
पहर-पहर,लम्हा-लम्हा
शब हुई दीपक जले
दिल जला लम्हा-लम्हा
लबों पे तब्बसुम सजाते रहे
सुलगता रहा लम्हा-लम्हा
मोमबत्ती जैसे जलता रहा
पिघलता रहा लम्हा-लम्हा
सहर की मुझे थी उम्मीद
बढ़ता रहा लम्हा-लम्हा
चलता रहा लम्हा-लम्हा
-राजेश्वर

250 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Rajeshwar Singh
View all
You may also like:
आपकी बुद्धिमत्ता को कभी भी एक बार में नहीं आंका जा सकता क्यो
आपकी बुद्धिमत्ता को कभी भी एक बार में नहीं आंका जा सकता क्यो
Rj Anand Prajapati
ग़ज़ल /
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
दो नयनों की रार का,
दो नयनों की रार का,
sushil sarna
शुभ दीपावली
शुभ दीपावली
Harsh Malviya
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय-  उँगली   / अँगुली
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय- उँगली / अँगुली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
2391.पूर्णिका
2391.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अच्छा रहता
अच्छा रहता
Pratibha Pandey
मोर छत्तीसगढ़ महतारी हे
मोर छत्तीसगढ़ महतारी हे
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मुक्तक
मुक्तक
Rajesh Tiwari
किसान मजदूर होते जा रहे हैं।
किसान मजदूर होते जा रहे हैं।
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
"दिल्लगी"
Dr. Kishan tandon kranti
चन्द्रयान
चन्द्रयान
Kavita Chouhan
दर्पण
दर्पण
लक्ष्मी सिंह
नाम इंसानियत का
नाम इंसानियत का
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पूर्ण मे आधा व आधे मे पुर्ण अहसास हो
मेरे पूर्ण मे आधा व आधे मे पुर्ण अहसास हो
Anil chobisa
सबको   सम्मान दो ,प्यार  का पैगाम दो ,पारदर्शिता भूलना नहीं
सबको सम्मान दो ,प्यार का पैगाम दो ,पारदर्शिता भूलना नहीं
DrLakshman Jha Parimal
आया बाढ नग पहाड़ पे🌷✍️
आया बाढ नग पहाड़ पे🌷✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
समंदर चाहते है किनारा कौन बनता है,
समंदर चाहते है किनारा कौन बनता है,
Vindhya Prakash Mishra
लगाव
लगाव
Rajni kapoor
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
एक वो है मासूमियत देख उलझा रही हैं खुद को…
Anand Kumar
"वृद्धाश्रम"
Radhakishan R. Mundhra
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
VINOD CHAUHAN
दोहावली
दोहावली
Prakash Chandra
आप की डिग्री सिर्फ एक कागज का टुकड़ा है जनाब
आप की डिग्री सिर्फ एक कागज का टुकड़ा है जनाब
शेखर सिंह
आस नहीं मिलने की फिर भी,............ ।
आस नहीं मिलने की फिर भी,............ ।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
शुभ् कामना मंगलकामनाएं
शुभ् कामना मंगलकामनाएं
Mahender Singh
*कितनी बार कैलेंडर बदले, साल नए आए हैं (हिंदी गजल)*
*कितनी बार कैलेंडर बदले, साल नए आए हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
सत्य पथ पर (गीतिका)
सत्य पथ पर (गीतिका)
surenderpal vaidya
"आत्म-निर्भरता"
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...