Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Aug 2016 · 1 min read

“गीत”

स्थाई-
*****
माँ वाणी को शीश झुकाना |
वन्दन अर्चन करते जाना ||
कविवर तुम समाज के दर्पण |
दोष दिखाना राह बताना ||
माँ वाणी को शीश झुकाना…..
अंतरा –
*****
कठिन दौर में मानव जीवन
फटे हृदय हैं उधड़े सीवन |
स्वार्थ दम्भ का विस्तृत दामन
निस्वार्थ तुम्हें चलते जाना
माँ वाणी को शीश झुकाना …….

कलम तुम्हारी राह दिखाए
भले बुरे का ज्ञान कराए |
बस इतनी है विनती भैया
जोश नया नव चेतन लाना
माँ वाणी को शीश झुकाना …..

कुछ हैं विमुख कर्त्तव्य पथ से |
कुछ भटके अहंकार मद से |
कलम उठाना जब भी कविवर
सुगम राह उनको दिखलाना
माँ वाणी को शीश झुकना ……
“छाया”

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 2 Comments · 564 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हवा
हवा
पीयूष धामी
मुजरिम करार जब कोई क़ातिल...
मुजरिम करार जब कोई क़ातिल...
अश्क चिरैयाकोटी
🔘सुविचार🔘
🔘सुविचार🔘
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
चंदा मामा और चंद्रयान
चंदा मामा और चंद्रयान
Ram Krishan Rastogi
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
ख़ुदा ने बख़्शी हैं वो ख़ूबियाँ के
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोगलापन
दोगलापन
Mamta Singh Devaa
खूबसूरत है किसी की कहानी का मुख्य किरदार होना
खूबसूरत है किसी की कहानी का मुख्य किरदार होना
पूर्वार्थ
2761. *पूर्णिका*
2761. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
किताबों की वापसी
किताबों की वापसी
Shekhar Chandra Mitra
आज की प्रस्तुति: भाग 5
आज की प्रस्तुति: भाग 5
Rajeev Dutta
बेटी को मत मारो 🙏
बेटी को मत मारो 🙏
Samar babu
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
तीन मुक्तकों से संरचित रमेशराज की एक तेवरी
तीन मुक्तकों से संरचित रमेशराज की एक तेवरी
कवि रमेशराज
बात शक्सियत की
बात शक्सियत की
Mahender Singh Manu
वो लड़की
वो लड़की
Kunal Kanth
व्यथा पेड़ की
व्यथा पेड़ की
विजय कुमार अग्रवाल
बेचारे नेता
बेचारे नेता
दुष्यन्त 'बाबा'
सुपर हीरो
सुपर हीरो
Sidhartha Mishra
समय यात्रा संभावना -एक विचार
समय यात्रा संभावना -एक विचार
Shyam Sundar Subramanian
सर्द हवाएं
सर्द हवाएं
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
माँ स्कंदमाता की कृपा,
माँ स्कंदमाता की कृपा,
Neelam Sharma
रोजाना आने लगे , बादल अब घनघोर (कुंडलिया)
रोजाना आने लगे , बादल अब घनघोर (कुंडलिया)
Ravi Prakash
रजा में राजी गर
रजा में राजी गर
Satish Srijan
Pata to sabhi batate h , rasto ka,
Pata to sabhi batate h , rasto ka,
Sakshi Tripathi
आशा निराशा
आशा निराशा
Suryakant Dwivedi
आदिवासी कभी छल नहीं करते
आदिवासी कभी छल नहीं करते
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
💐प्रेम कौतुक-327💐
💐प्रेम कौतुक-327💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
निराशा एक आशा
निराशा एक आशा
डॉ. शिव लहरी
Loading...