Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 14, 2016 · 1 min read

“गीत”

स्थाई-
*****
माँ वाणी को शीश झुकाना |
वन्दन अर्चन करते जाना ||
कविवर तुम समाज के दर्पण |
दोष दिखाना राह बताना ||
माँ वाणी को शीश झुकाना…..
अंतरा –
*****
कठिन दौर में मानव जीवन
फटे हृदय हैं उधड़े सीवन |
स्वार्थ दम्भ का विस्तृत दामन
निस्वार्थ तुम्हें चलते जाना
माँ वाणी को शीश झुकाना …….

कलम तुम्हारी राह दिखाए
भले बुरे का ज्ञान कराए |
बस इतनी है विनती भैया
जोश नया नव चेतन लाना
माँ वाणी को शीश झुकाना …..

कुछ हैं विमुख कर्त्तव्य पथ से |
कुछ भटके अहंकार मद से |
कलम उठाना जब भी कविवर
सुगम राह उनको दिखलाना
माँ वाणी को शीश झुकना ……
“छाया”

1 Like · 2 Comments · 195 Views
You may also like:
धीरता संग रखो धैर्य
Dr. Alpa H. Amin
खुशबू
DESH RAJ
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ७]
Anamika Singh
*माँ छिन्नमस्तिका 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
कभी हम भी।
Taj Mohammad
उड़ चले नीले गगन में।
Taj Mohammad
स्वर कोकिला
AMRESH KUMAR VERMA
"मैं फ़िर से फ़ौजी कहलाऊँगा"
Lohit Tamta
✍️किसान की आत्मकथा✍️
"अशांत" शेखर
हनुमान जयंती पर कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो, ऐसा विज्ञान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हमने की वफा।
Taj Mohammad
छुट्टी वाले दिन...♡
Dr. Alpa H. Amin
ईश्वर ने दिया जिंन्दगी
Anamika Singh
नवगीत
Mahendra Narayan
मुखौटा
Anamika Singh
✍️मेरा जिक्र हुवा✍️
"अशांत" शेखर
राह जो तकने लगे हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
सुविचारों का स्वागत है
नवीन जोशी 'नवल'
🍀🌺प्रेम की राह पर-43🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सोंच समझ....
Dr. Alpa H. Amin
*विश्व योग का दिन पावन इक्कीस जून को आता(गीत)*
Ravi Prakash
शिखर छुऊंगा एक दिन
AMRESH KUMAR VERMA
मेरा स्वाभिमान है पिता।
Taj Mohammad
कबीर के राम
Shekhar Chandra Mitra
मेरी हस्ती
Anamika Singh
लता मंगेशकर
AMRESH KUMAR VERMA
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
सिपाही
Buddha Prakash
Loading...