Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2018 · 1 min read

गीत

जब से मिले हो पागल हुआ दिल,तेरी याद में मैं खोया हुआ हूँ
जो नजरो से तूने नजर को मिलाया,तेरी ही नजरो मै खोया हुआ हूँ

जज्बात दिल के कैसे बताऊ,जज्बात दिल छुपाये हुआ हूँ
तुझको ही पाने का खोने का डर है,इसी बात से घबराया हुआ हूँ

Language: Hindi
Tag: गीत
6 Likes · 367 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मोहन वापस आओ
मोहन वापस आओ
Dr Archana Gupta
मोदी एक महानायक
मोदी एक महानायक
Sueta Dutt Chaudhary Fiji
जिंदगी की राहों में, खुशियों की बारात हो,
जिंदगी की राहों में, खुशियों की बारात हो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*** सागर की लहरें....! ***
*** सागर की लहरें....! ***
VEDANTA PATEL
"इंसान की जमीर"
Dr. Kishan tandon kranti
*अगर ईश्वर नहीं चाहता, कभी मिलता नहीं होता (मुक्तक)*
*अगर ईश्वर नहीं चाहता, कभी मिलता नहीं होता (मुक्तक)*
Ravi Prakash
आ गए चुनाव
आ गए चुनाव
Sandeep Pande
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
Forget and Forgive Solve Many Problems
Forget and Forgive Solve Many Problems
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
सुबह का प्रणाम। इस शेर के साथ।
सुबह का प्रणाम। इस शेर के साथ।
*प्रणय प्रभात*
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Santosh kumar Miri
उड़ान
उड़ान
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
वर्तमान सरकारों ने पुरातन ,
वर्तमान सरकारों ने पुरातन ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
प्रेरक गीत
प्रेरक गीत
Saraswati Bajpai
जिगर धरती का रखना
जिगर धरती का रखना
Kshma Urmila
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
हर दर्द से था वाकिफ हर रोज़ मर रहा हूं ।
Phool gufran
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
कुछ हकीकत कुछ फसाना और कुछ दुश्वारियां।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
सुंदर विचार
सुंदर विचार
Jogendar singh
अपने हक की धूप
अपने हक की धूप
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
3699.💐 *पूर्णिका* 💐
3699.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
🙏गजानन चले आओ🙏
🙏गजानन चले आओ🙏
SPK Sachin Lodhi
हाथों की लकीरों को हम किस्मत मानते हैं।
हाथों की लकीरों को हम किस्मत मानते हैं।
Neeraj Agarwal
आप में आपका
आप में आपका
Dr fauzia Naseem shad
* बाँझ न समझो उस अबला को *
* बाँझ न समझो उस अबला को *
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
What consumes your mind controls your life
What consumes your mind controls your life
पूर्वार्थ
धर्म की खूंटी
धर्म की खूंटी
मनोज कर्ण
“परिंदे की अभिलाषा”
“परिंदे की अभिलाषा”
DrLakshman Jha Parimal
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
।।सावन म वैशाख नजर आवत हे।।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मजबूरियां थी कुछ हमारी
मजबूरियां थी कुछ हमारी
gurudeenverma198
दादी की वह बोरसी
दादी की वह बोरसी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Loading...