Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Aug 2023 · 1 min read

गीत..

गीत..

बदली- बदली सी तश्वीरें, आया कैसा दौर।
ढूँढ़ रहे हम बाजारों में, रोटी के दो कौर।।

घूर रहा बेचैनी लेकर, अब खुद को इंसान।
दूर हटाता ही वह जाता, रिश्तों से पहचान।
होते हैं जो निर्बल क्यों ना, होता उनपे गौर।
बदली- बदली सी तश्वीरें, आया कैसा दौर।।

संवादों में खोई दुनिया, जाने कैसी भूख।
संवेगों की जाती सरिता, अन्तर्मन से सूख।
दुर्व्यसनी अब हो बैठे हैं, बागों के सिरमौर।
बदली- बदली सी तश्वीरें, आया कैसा दौर।।

सत्कर्मों की बातें केवल, पन्नों तक द्रष्टव्य।
छीनाझपटी में दौलत के, मुस्काता मंतव्य।
आँसू बन चूती सच्चाई, बेबस हो हर ठौर।
बदली- बदली सी तश्वीरें, आया कैसा दौर।।

आज मशीनें बोल रही हैं, इंसानों की बोल।
मांग रही हैं राग- रागिनी, दरबारों से मोल।
सिखलाते कौवे हंसो को, उड़ने का हैं तौर।
बदली- बदली सी तश्वीरें, आया कैसा दौर।।

बदली- बदली सी तश्वीरें, आया कैसा दौर।
ढूँढ़ रहे हम बाजारों में, रोटी के दो कौर।।

डाॅ. राजेन्द्र सिंह ‘राही’
(बस्ती उ. प्र.)

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 98 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
Dr. Narendra Valmiki
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
वक्त से पहले..
वक्त से पहले..
Harminder Kaur
मैं चाहती हूँ
मैं चाहती हूँ
ruby kumari
हिंदुस्तान जिंदाबाद
हिंदुस्तान जिंदाबाद
Mahmood Alam
वृक्ष बन जाओगे
वृक्ष बन जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
तीजनबाई
तीजनबाई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐अज्ञात के प्रति-128💐
💐अज्ञात के प्रति-128💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"फ़ानी दुनिया"
Dr. Kishan tandon kranti
यह आखिरी खत है हमारा
यह आखिरी खत है हमारा
gurudeenverma198
"एको देवः केशवो वा शिवो वा एकं मित्रं भूपतिर्वा यतिर्वा ।
Mukul Koushik
" वर्ष 2023 ,बालीवुड के लिए सफ़लता की नयी इबारत लिखेगा "
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
"स्वप्न".........
Kailash singh
भगतसिंह की क़लम
भगतसिंह की क़लम
Shekhar Chandra Mitra
बच्चों को बच्चा रहने दो
बच्चों को बच्चा रहने दो
Manu Vashistha
फकत है तमन्ना इतनी।
फकत है तमन्ना इतनी।
Taj Mohammad
पानी जैसा बनो रे मानव
पानी जैसा बनो रे मानव
Neelam Sharma
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
यह जो पापा की परियां होती हैं, ना..'
SPK Sachin Lodhi
सीधे साधे बोदा से हम नैन लड़ाने वाले लड़के
सीधे साधे बोदा से हम नैन लड़ाने वाले लड़के
कृष्णकांत गुर्जर
शब्द वाणी
शब्द वाणी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
थम जाने दे तूफान जिंदगी के
थम जाने दे तूफान जिंदगी के
कवि दीपक बवेजा
तुम्हारी बातों में ही
तुम्हारी बातों में ही
हिमांशु Kulshrestha
कविता: सजना है साजन के लिए
कविता: सजना है साजन के लिए
Rajesh Kumar Arjun
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
त्राहि-त्राहि भगवान( कुंडलिया )
त्राहि-त्राहि भगवान( कुंडलिया )
Ravi Prakash
विनय
विनय
Kanchan Khanna
जरूरी नहीं जिसका चेहरा खूबसूरत हो
जरूरी नहीं जिसका चेहरा खूबसूरत हो
Ranjeet kumar patre
2487.पूर्णिका
2487.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
■ कहानी घर-घर की।
■ कहानी घर-घर की।
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...