Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Nov 2022 · 1 min read

गीत

मन के कनक महल से जाना, याद नहीं जब सुख रख पाया।
तब मैंने ही सहज भाव से दुःख को आमंत्रण भिजवाया।

जैसे नन्हें ध्रुव को माँ ने,
स्वयं तपोमय मार्ग बताया ।
मदन काममय तीर चढ़ाकर,
महादेव के सम्मुख आया।
जैसे भागीरथ तप करके,
गंगा को धरती पर लाए।
हम आँखों की आचमनी में,
अपने सब आँसू भर लाए।

अभी वचन द्वै शेष पड़े हैं, जब भी मति ने याद दिलाया।
तब मैंने ही सहज भाव से दुःख को आमंत्रण भिजवाया।

मैंने लिक्खा कहो सुभागे,
तुम्हें याद हैं अपनी बातें ?
सूना कमरा, तकिया, आँखें
नदी किनारा, मधुरिम रातें ?
अच्छा! याद नहीं है तो भी,
पत्र पढ़ो यादें दोहराओ
रातें रास्ता देख रहीं हैं,
मन की देहरी तक आ जाओ।

मुस्कानों का अपना घर है, जब भी अधरों ने बिसराया।
तब मैंने ही सहज भाव से दुःख को आमंत्रण भिजवाया।

मुझे पता था दुःख की बदली,
धूप सुखों की ले जायेगी।
खाली सेज, दुआरा, खिड़की
एकाकीपन दे जाएगी…।
भावी सूनेपन का मैंने,
कुछ ऐसे उपचार किया है।
त्याग सभी भौतिक आभूषण,
चंदन अंगीकार किया है।

एक प्रश्न जब राजकुँवर को, बोधगया तक लेकर आया।
तब मैंने ही सहज भाव से दुःख को आमंत्रण भिजवाया।
©शिवा अवस्थी

3 Likes · 472 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भक्त मार्ग और ज्ञान मार्ग
भक्त मार्ग और ज्ञान मार्ग
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आसानी से कोई चीज मिल जाएं
आसानी से कोई चीज मिल जाएं
शेखर सिंह
'अकेलापन'
'अकेलापन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
"YOU ARE GOOD" से शुरू हुई मोहब्बत "YOU
nagarsumit326
★
पूर्वार्थ
जिंदगी मुस्कुराती थी कभी, दरख़्तों की निगेहबानी में, और थाम लेता था वो हाथ मेरा, हर एक परेशानी में।
जिंदगी मुस्कुराती थी कभी, दरख़्तों की निगेहबानी में, और थाम लेता था वो हाथ मेरा, हर एक परेशानी में।
Manisha Manjari
सताती दूरियाँ बिलकुल नहीं उल्फ़त हृदय से हो
सताती दूरियाँ बिलकुल नहीं उल्फ़त हृदय से हो
आर.एस. 'प्रीतम'
3180.*पूर्णिका*
3180.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पिता का पेंसन
पिता का पेंसन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
उनकी नाराज़गी से हमें बहुत दुःख हुआ
उनकी नाराज़गी से हमें बहुत दुःख हुआ
Govind Kumar Pandey
#लघुव्यंग्य-
#लघुव्यंग्य-
*प्रणय प्रभात*
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
साहित्य चेतना मंच की मुहीम घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
एक छोटी सी आश मेरे....!
एक छोटी सी आश मेरे....!
VEDANTA PATEL
जब तुम
जब तुम
Dr.Priya Soni Khare
ले चलो तुम हमको भी, सनम अपने साथ में
ले चलो तुम हमको भी, सनम अपने साथ में
gurudeenverma198
हिन्दी दोहा - स्वागत
हिन्दी दोहा - स्वागत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जब जब भूलने का दिखावा किया,
जब जब भूलने का दिखावा किया,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
!! शिव-शक्ति !!
!! शिव-शक्ति !!
Chunnu Lal Gupta
सेर
सेर
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
धर्म और संस्कृति
धर्म और संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
कवि दीपक बवेजा
मौहब्बत में किसी के गुलाब का इंतजार मत करना।
मौहब्बत में किसी के गुलाब का इंतजार मत करना।
Phool gufran
पिता
पिता
Harendra Kumar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*नारी*
*नारी*
Dr. Priya Gupta
मेल
मेल
Lalit Singh thakur
*राष्ट्रभाषा हिंदी और देशज शब्द*
*राष्ट्रभाषा हिंदी और देशज शब्द*
Subhash Singhai
*फिर से बने विश्व गुरु भारत, ऐसा हिंदुस्तान हो (गीत)*
*फिर से बने विश्व गुरु भारत, ऐसा हिंदुस्तान हो (गीत)*
Ravi Prakash
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
धैर्य के साथ अगर मन में संतोष का भाव हो तो भीड़ में भी आपके
Paras Nath Jha
Loading...