Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2017 · 1 min read

गीत

* आखिर मिलना क्या है ?*
इनका जीना मरना क्या है ?
इनसे आखिर मिलना क्या है ?

मख्खी मच्छर कीट पतंगे।
निर्धन निर्बल नीच लफंगे।
अपने लिय ही यह जीते है।
कुछ लहु कुछ आंसू पीते है।
इनका जीना मरना क्या है ?
इनसे आखिर मिलना क्या है ?

माखी माछर मन मडराते।
मौका मिलता खूं पी जाते।
जीव जानवर कोई भी हो,
यह तो सबको रहे सताते।
लाभ इन्ही से वरना क्या है ?
इनसे आखिर मिलना क्या है ?
कीट पतंगे उड़ते फिरते।
कुसुम कणों को खाते रहते।
अपनी धुन में मगन रहे यह,
नही किसी को क्षत पहूँचाते।
इनसे किसको डरना क्या है ?
इनसे आखिर मिलना क्या है ?

निर्धन निधन समान यहाँ है।
निर्बल मरणासन्न जहाँ है।
कहते इसको इंसान अरे।
इनका हो सम्मान कहाँ है।
इनको जीकर करना क्या है ?
इनसे आखिर मिलना क्या है ?
लुच्चे लफंगे करते दंगे।
खाते पीते फिरते चंगे।
इनका कोइ बिगाड़ेगा क्या,
फिरतेयह आजीवन नंगे।
इनके सह ‘मधु’रहना क्या है ?
इनसे आखिर मिलना क्या है ?

***©मधुसूदन गौतम
9414764891

243 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश होना।
ऊपर चढ़ता देख तुम्हें, मुमकिन मेरा खुश होना।
सत्य कुमार प्रेमी
सब को जीनी पड़ेगी ये जिन्दगी
सब को जीनी पड़ेगी ये जिन्दगी
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
नेता के बोल
नेता के बोल
Aman Sinha
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
मेरी तुझ में जान है,
मेरी तुझ में जान है,
sushil sarna
हम तुम और इश्क़
हम तुम और इश्क़
Surinder blackpen
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
दिल हमारा तुम्हारा धड़कने लगा।
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"खिलाफत"
Dr. Kishan tandon kranti
सवाल ये नहीं
सवाल ये नहीं
Dr fauzia Naseem shad
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
🌲दिखाता हूँ मैं🌲
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
3619.💐 *पूर्णिका* 💐
3619.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
क्या बिगाड़ लेगा कोई हमारा
क्या बिगाड़ लेगा कोई हमारा
VINOD CHAUHAN
समूचे साल में मदमस्त, सबसे मास सावन है (मुक्तक)
समूचे साल में मदमस्त, सबसे मास सावन है (मुक्तक)
Ravi Prakash
ঐটা সত্য
ঐটা সত্য
Otteri Selvakumar
क्यों हमें बुनियाद होने की ग़लत-फ़हमी रही ये
क्यों हमें बुनियाद होने की ग़लत-फ़हमी रही ये
Meenakshi Masoom
वोट का लालच
वोट का लालच
Raju Gajbhiye
"पहले मुझे लगता था कि मैं बिका नही इसलिए सस्ता हूँ
गुमनाम 'बाबा'
कठिन समय आत्म विश्लेषण के लिए होता है,
कठिन समय आत्म विश्लेषण के लिए होता है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मेरी साँसों से अपनी साँसों को - अंदाज़े बयाँ
मेरी साँसों से अपनी साँसों को - अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Just try
Just try
पूर्वार्थ
अभिनेता वह है जो अपने अभिनय से समाज में सकारात्मक प्रभाव छोड
अभिनेता वह है जो अपने अभिनय से समाज में सकारात्मक प्रभाव छोड
Rj Anand Prajapati
51…..Muzare.a musamman aKHrab:: maf'uul faa'ilaatun maf'uul
51…..Muzare.a musamman aKHrab:: maf'uul faa'ilaatun maf'uul
sushil yadav
डॉ. नगेन्द्र की दृष्टि में कविता
डॉ. नगेन्द्र की दृष्टि में कविता
कवि रमेशराज
हमारा दिल।
हमारा दिल।
Taj Mohammad
#संकट-
#संकट-
*प्रणय प्रभात*
बच्चे
बच्चे
Kanchan Khanna
ईश्वर
ईश्वर
Shyam Sundar Subramanian
जाने क्यों तुमसे मिलकर भी
जाने क्यों तुमसे मिलकर भी
Sunil Suman
तेरा फिक्र
तेरा फिक्र
Basant Bhagawan Roy
Loading...