Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Nov 12, 2016 · 1 min read

गीत

पेड़ों की छाँव तले
फूलों के पास
बैठूँ तो मुझे लगे
आप मेरे साथ ।

राहों में सपने पले
धुँध आसपास
देखूँ तो मुझे लगे
आप मेरे साथ ।

शब्दों में गीत ढले
धड़कन के पास
सोचूँ तो मुझे लगे
आप मेरे साथ ।

झोंके हवा के चले
खुश्बू आसपास
सूँघूँ तो मुझे लगे
आप मेरे साथ ।

उमंगों ने नयन मले
चाहों के पास
जागूँ तो मुझे लगे
आप मेरे साथ ।

राहों में दीप जले
कदमों के पास
पाऊँ तो मुझे लगे
आप मेरे साथ ।

259 Views
You may also like:
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पेशकश पर
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दया करो भगवान
Buddha Prakash
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
गीत
शेख़ जाफ़र खान
Loading...