Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2016 · 1 min read

गीत

पेड़ों की छाँव तले
फूलों के पास
बैठूँ तो मुझे लगे
आप मेरे साथ ।

राहों में सपने पले
धुँध आसपास
देखूँ तो मुझे लगे
आप मेरे साथ ।

शब्दों में गीत ढले
धड़कन के पास
सोचूँ तो मुझे लगे
आप मेरे साथ ।

झोंके हवा के चले
खुश्बू आसपास
सूँघूँ तो मुझे लगे
आप मेरे साथ ।

उमंगों ने नयन मले
चाहों के पास
जागूँ तो मुझे लगे
आप मेरे साथ ।

राहों में दीप जले
कदमों के पास
पाऊँ तो मुझे लगे
आप मेरे साथ ।

Language: Hindi
Tag: गीत
517 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
Guru Mishra
सुन्दर तन तब जानिये,
सुन्दर तन तब जानिये,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सृजन के जन्मदिन पर
सृजन के जन्मदिन पर
Satish Srijan
बच्चे का संदेश
बच्चे का संदेश
Anjali Choubey
ऐसा क्यूं है??
ऐसा क्यूं है??
Kanchan Alok Malu
मुझे दूसरे के अखाड़े में
मुझे दूसरे के अखाड़े में
*Author प्रणय प्रभात*
कविता
कविता
sushil sarna
संस्कार
संस्कार
Sanjay ' शून्य'
3) मैं किताब हूँ
3) मैं किताब हूँ
पूनम झा 'प्रथमा'
अफवाह एक ऐसा धुआं है को बिना किसी आग के उठता है।
अफवाह एक ऐसा धुआं है को बिना किसी आग के उठता है।
Rj Anand Prajapati
निज़ाम
निज़ाम
अखिलेश 'अखिल'
*राजा राम सिंह का वंदन, जिनका राज्य कठेर था (गीत)*
*राजा राम सिंह का वंदन, जिनका राज्य कठेर था (गीत)*
Ravi Prakash
यादगार
यादगार
Bodhisatva kastooriya
💐प्रेम कौतुक-212💐
💐प्रेम कौतुक-212💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सबके राम
सबके राम
Sandeep Pande
महाप्रलय
महाप्रलय
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
कितनी मासूम
कितनी मासूम
हिमांशु Kulshrestha
जब असहिष्णुता सर पे चोट करती है ,मंहगाईयाँ सर चढ़ के जब तांडव
जब असहिष्णुता सर पे चोट करती है ,मंहगाईयाँ सर चढ़ के जब तांडव
DrLakshman Jha Parimal
वक्त गुजर जायेगा
वक्त गुजर जायेगा
Sonu sugandh
जिंदगी एक आज है
जिंदगी एक आज है
Neeraj Agarwal
वो अजनबी झोंका
वो अजनबी झोंका
Shyam Sundar Subramanian
किसी की याद आना
किसी की याद आना
श्याम सिंह बिष्ट
मेरे उर के छाले।
मेरे उर के छाले।
Anil Mishra Prahari
मैं तो महज नीर हूँ
मैं तो महज नीर हूँ
VINOD CHAUHAN
साधु की दो बातें
साधु की दो बातें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रेम उतना ही करो जिसमे हृदय खुश रहे
प्रेम उतना ही करो जिसमे हृदय खुश रहे
पूर्वार्थ
अंबेडकर और भगतसिंह
अंबेडकर और भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
"खामोशी"
Dr. Kishan tandon kranti
वक्त
वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
Loading...