Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2016 · 1 min read

गीत- कहने को तो साथ हमारे चाँद-सितारे रहते हैं

गीत- कहने को तो साथ हमारे चाँद-सितारे रहते हैं
________________________________
तुम रहते हो, खुशियों के भी मौसम सारे रहते हैं
फिर भी हम जीवन से कितने हारे-हारे रहते हैं

थक जाते हैं चलते चलते
कैसी मंजिल ढूँढ रहे
मझधारों से प्यार किया है
लेकिन साहिल ढूँढ रहे
कहने को तो साथ हमारे चाँद-सितारे रहते हैं-
फिर भी हम जीवन से कितने हारे-हारे रहते हैं

महफिल में हैं फिर भी जैसे
लगता आज अकेले हैं
हमने तो बस रोना सीखा
जग में कितने मेले हैं
दुनिया के हर खिलते लम्हें साथ हमारे रहतेे हैं
फिर भी हम जीवन से कितने हारे-हारे रहते हैं

दर्द भरे धुन गाने वाले
साज बजाते शहनाई
दिन की चाहत में कट जाती
रातों की भी तन्हाई
फूलों के सँग काँटे भी तो रूप सँवारे रहते हैं-
फिर भी हम जीवन से कितने हारे-हारे रहते हैं

– आकाश महेशपुरी

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 1 Comment · 380 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी पहली होली
मेरी पहली होली
BINDESH KUMAR JHA
प्यार का तेरा सौदा हुआ।
प्यार का तेरा सौदा हुआ।
पूर्वार्थ
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
बेचारा प्रताड़ित पुरुष
बेचारा प्रताड़ित पुरुष
Manju Singh
बचपन
बचपन
नन्दलाल सुथार "राही"
🙅आज की बात🙅
🙅आज की बात🙅
*Author प्रणय प्रभात*
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
Bhupendra Rawat
इज़्जत भरी धूप का सफ़र करना,
इज़्जत भरी धूप का सफ़र करना,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*मायापति को नचा रही, सोने के मृग की माया (गीत)*
*मायापति को नचा रही, सोने के मृग की माया (गीत)*
Ravi Prakash
चिंतित अथवा निराश होने से संसार में कोई भी आपत्ति आज तक दूर
चिंतित अथवा निराश होने से संसार में कोई भी आपत्ति आज तक दूर
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
खालीपन
खालीपन
MEENU
बचपन की यादों को यारो मत भुलना
बचपन की यादों को यारो मत भुलना
Ram Krishan Rastogi
खुशियाँ
खुशियाँ
विजय कुमार अग्रवाल
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
नाथ सोनांचली
वो रास्ता तलाश रहा हूं
वो रास्ता तलाश रहा हूं
Vikram soni
चलो...
चलो...
Srishty Bansal
धार्मिक नहीं इंसान बनों
धार्मिक नहीं इंसान बनों
Dr fauzia Naseem shad
कड़ियों की लड़ी धीरे-धीरे बिखरने लगती है
कड़ियों की लड़ी धीरे-धीरे बिखरने लगती है
DrLakshman Jha Parimal
The life of an ambivert is the toughest. You know why? I'll
The life of an ambivert is the toughest. You know why? I'll
Sukoon
2313.
2313.
Dr.Khedu Bharti
आधुनिक टंट्या कहूं या आधुनिक बिरसा कहूं,
आधुनिक टंट्या कहूं या आधुनिक बिरसा कहूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
जय श्रीकृष्ण । ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः ।
जय श्रीकृष्ण । ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः ।
Raju Gajbhiye
हेेे जो मेरे पास
हेेे जो मेरे पास
Swami Ganganiya
ख़त आया तो यूँ लगता था,
ख़त आया तो यूँ लगता था,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
# लोकतंत्र .....
# लोकतंत्र .....
Chinta netam " मन "
जब तक नहीं है पास,
जब तक नहीं है पास,
Satish Srijan
अखंड भारतवर्ष
अखंड भारतवर्ष
Bodhisatva kastooriya
साधना से सिद्धि.....
साधना से सिद्धि.....
Santosh Soni
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
अपूर्ण नींद और किसी भी मादक वस्तु का नशा दोनों ही शरीर को अन
Rj Anand Prajapati
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
मुझे किसी को रंग लगाने की जरूरत नहीं
Ranjeet kumar patre
Loading...