Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2016 · 1 min read

गीत :– दिल नें तुझे पाने के सपने संजोये हैं !!

गीत :– तुझे पाने के सपने संजोये हैं !!

तेरी याद मे हमने अपनी पलकें भिगोये हैं !
दिल ने तुझे पाने के सपने संजोये हैं !!

तरस रही आँखें तेरा दीदार पाने को ,
हर मुमकिन कोशिश किये तुझे मनाने को ,
इन आखों को अपने आँसू से धोये हैं !
दिल ने तुझे पाने के सपने संजोये हैं !१!

उठा तूफान दिल मे प्रीत निभाने के वास्ते ,
खोया था हमने आप को पाने के वास्ते ,
रुषबाई मे तन्हाई मे रातों को रोये हैं !
दिल ने तुझे पाने के सपने संजोये हैं !२!

ख्वाबों में रातों को बस तुम ही आते हो ,
हर वार मुझमें जीने की हसरत जगाते हो ,
सपनों के समन्दर से मोती पिरोये हैं !
दिल ने तुझे पाने के सपनें संजोये हैं !३!

एक पल का जीना हुआ मुश्किल जुदाई में !
अब देर कितनी देखना खुदा की खुदाई में ,
हसीन चाँदनी रात को ख्यालों में खोये हैं !
दिल ने तुझे पाने के सपनें संजोये हैं !४!

Anuj Tiwari “Indwar”

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 2 Comments · 573 Views
You may also like:
माता प्राकट्य
Dr. Sunita Singh
चोरी चोरी छुपके छुपके
gurudeenverma198
मेरे सपने
सूर्यकांत द्विवेदी
ग़ज़ल-धीरे-धीरे
Sanjay Grover
प्रकृति कविता
Harshvardhan "आवारा"
हाँ! मैं करता हूँ प्यार
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
कई दिनों से मेरी मां से बात ना हुई।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
तन-मन की गिरह
Saraswati Bajpai
गरिमामय प्रतिफल
Shyam Sundar Subramanian
बाल कहानी- प्यारे चाचा
SHAMA PARVEEN
✍️पुरानी रसोई✍️
'अशांत' शेखर
जुबान काट दी जाएगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
सदियों की गुलामी
Shekhar Chandra Mitra
मिल जाने की तमन्ना लिए हसरत हैं आरजू
Dr.sima
जिंदगी भर का चैन ले गए।
Taj Mohammad
मैं परछाइयों की भी कद्र करता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
"मैं फ़िर से फ़ौजी कहलाऊँगा"
Lohit Tamta
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
शर्मिंदा
Buddha Prakash
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सितारे गर्दिश में
shabina. Naaz
मत्तगयंद सवैया छंद
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बेरूखी
Anamika Singh
ठण्डी दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरी हर शय बात करती है
Sandeep Albela
जाति- पाति, भेद- भाव
AMRESH KUMAR VERMA
🚩वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*कृष्ण*【कुंडलिया】
Ravi Prakash
दाने दाने पर नाम लिखा है
Ram Krishan Rastogi
Loading...