Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jun 2023 · 1 min read

गीत।।। ओवर थिंकिंग

कल्पनाओं धैर्य रखो,
और भी रातें मिलेंगी।
चार कब के बज चुके हैं,
आँख सोना चाहती हैं।

याद आयी एक लड़की, रात के दूजे पहर में।
जो मिली अंतिम दिनों में, ग्रेजुएशन के सफ़र में।
कल्पनायें साक्षी हैं, फिर हुआ परिणय हमारा।
फिर मिलन की रात आई, धक से धड़का दिल कुँआरा।

निर्लजी कुछ धैर्य रखो,
और भी रातें मिलेंगी।
अब सभी सक्रिय रगें
विश्राम लेना चाहतीं हैं।

घर अभी भी अधबना है, फिर अचानक याद आया।
सोच अपनी नौकरी को, बेबसी पर मुस्कुराया।
व्यंग्य करते कुछ पड़ोसी, आ गए आँखों के आगे।
फिर नहीं सुलझाए सुलझे, कल्पना के क्लिष्ट धागे।

कामनाओं धैर्य रखो,
और भी रातें मिलेंगी।
अक्ल की बेकल शिराएँ,
शांत होना चाहती हैं।

प्रथम वर्णित कल्पना पर नींद आई थी घनेरी,
क्यों चली आई जमाने की, तरफ ये बुद्धि मेरी!
हर कला हर विज्ञता को, क्यों निरर्थक बोलते हैं ?
क्यों सभी की योग्यता बस नौकरी से तोलते हैं ?

चेतनाओं धैर्य रखो,
और भी रातें मिलेंगी।
जानती हूँ स्वाँस तेरी,
प्रश्न बोना चाहतीं हैं।

क्रोध से तन भर गया तो, भावना में मन भिगोया।
माँ, पिता और परिजनों के, साथ मैं भी खूब रोया।
कल्पना की अति हुई, हर भाव जीकर तर गया मैं।
अंततः अंतिम प्रहर जब, कल्पना में मर गया मैं।

भावनाओं धैर्य रखो,
और भी रातें मिलेंगी।
अब अचेतन की सदायें,
मौन होना चाहतीं हैं।
©शिवा अवस्थी

1 Like · 389 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हकीकत जानते हैं
हकीकत जानते हैं
Surinder blackpen
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
*छ्त्तीसगढ़ी गीत*
Dr.Khedu Bharti
13. पुष्पों की क्यारी
13. पुष्पों की क्यारी
Rajeev Dutta
Wo mitti ki aashaye,
Wo mitti ki aashaye,
Sakshi Tripathi
खामोश
खामोश
Kanchan Khanna
आपका दु:ख किसी की
आपका दु:ख किसी की
Aarti sirsat
दंगा पीड़ित कविता
दंगा पीड़ित कविता
Shyam Pandey
अभी कैसे हिम्मत हार जाऊं मैं ,
अभी कैसे हिम्मत हार जाऊं मैं ,
शेखर सिंह
* बातें मन की *
* बातें मन की *
surenderpal vaidya
💐अज्ञात के प्रति-86💐
💐अज्ञात के प्रति-86💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लखनऊ शहर
लखनऊ शहर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"नए पुराने नाम"
Dr. Kishan tandon kranti
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#हास्यप्रद_जिज्ञासा
#हास्यप्रद_जिज्ञासा
*Author प्रणय प्रभात*
:: English :::
:: English :::
Mr.Aksharjeet
अलग अलग से बोल
अलग अलग से बोल
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
रंगो ने दिलाई पहचान
रंगो ने दिलाई पहचान
Nasib Sabharwal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
(6)
(6)
Dr fauzia Naseem shad
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
Shweta Soni
दुख में भी मुस्कुराएंगे, विपदा दूर भगाएंगे।
दुख में भी मुस्कुराएंगे, विपदा दूर भगाएंगे।
डॉ.सीमा अग्रवाल
बाल कविता: मूंगफली
बाल कविता: मूंगफली
Rajesh Kumar Arjun
माहिया छंद विधान (पंजाबी ) सउदाहरण
माहिया छंद विधान (पंजाबी ) सउदाहरण
Subhash Singhai
कैसे कांटे हो तुम
कैसे कांटे हो तुम
Basant Bhagawan Roy
मौन हूँ, अनभिज्ञ नही
मौन हूँ, अनभिज्ञ नही
संजय कुमार संजू
*मूलत: आध्यात्मिक व्यक्तित्व श्री जितेंद्र कमल आनंद जी*
*मूलत: आध्यात्मिक व्यक्तित्व श्री जितेंद्र कमल आनंद जी*
Ravi Prakash
बूथ लेवल अधिकारी(बीएलओ)
बूथ लेवल अधिकारी(बीएलओ)
gurudeenverma198
life is an echo
life is an echo
पूर्वार्थ
सरल मिज़ाज से किसी से मिलो तो चढ़ जाने पर होते हैं अमादा....
सरल मिज़ाज से किसी से मिलो तो चढ़ जाने पर होते हैं अमादा....
कवि दीपक बवेजा
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...