Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2016 · 1 min read

गीतिका

मुश्किल से ना घवराना तू,
हिम्मत से बढ़ते जाना तू,

औ,कोई लाख अडाये रोड़े,
सबसे ही, अड़ते जाना तू,

साम,दाम या दण्ड,भेद हो,
पग-पग ही बढ़ते जाना तू,

आज नहीं,कल हो जायेगा,
रोज, नया गढ़ते जाना तू,

वो विकास की सीढ़ी,पगले,
तेरी है, चढ़ते जाना तू,

मंजिल मिल जायेगी तुझको,
हिम्मत से बढ़ते जाना तू,

सदा बुजुर्गों के अनुभव को,
शीश झुका,पढ़ते जाना तू,

अगर बुराई, हो हावी तो,
ताकत से लड़ते जाना तू,

रमेश शर्मा”राज”
बुदनी

1 Like · 275 Views
You may also like:
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ज़िंदादिली
Dr.S.P. Gautam
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
I could still touch your soul every time it rains.
Manisha Manjari
शिशिर की रात
लक्ष्मी सिंह
कुछ तो बोल
Harshvardhan "आवारा"
✍️कालापिला✍️
'अशांत' शेखर
■ चिंतापूर्ण चिंतन
*प्रणय प्रभात*
'समय का सदुपयोग'
Godambari Negi
हम जो तुम किसी से ना कह सको वो कहानी...
J_Kay Chhonkar
मुक्तक
प्रीतम श्रावस्तवी
मुझे तुम्हारी जरूरत नही...
Sapna K S
झुग्गी वाले
Shekhar Chandra Mitra
अपने शून्य पटल से
Rashmi Sanjay
*समय है बहता पानी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बहार के दिन
shabina. Naaz
🌺🌺प्रकृत्या: आदि:-मध्य:-अन्त: ईश्वरैव🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुक्तक व दोहा
अरविन्द व्यास
क्यो अश्क बहा रहे हो
Anamika Singh
आम ही आम है !
हरीश सुवासिया
बेटी जब घर से भाग जाती है
Dr. Sunita Singh
अंकपत्र सा जीवन
सूर्यकांत द्विवेदी
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
Ram Krishan Rastogi
दीदार ए वक्त।
Taj Mohammad
दुःख का कारण बन जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
ना चीज़ हो गया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
💐ये मेरी आशिकी💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
प्रतिष्ठित मनुष्य
AMRESH KUMAR VERMA
पुस्तैनी जमीन
आकाश महेशपुरी
Loading...