Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2016 · 1 min read

गीतिका

मुश्किल से ना घवराना तू,
हिम्मत से बढ़ते जाना तू,

औ,कोई लाख अडाये रोड़े,
सबसे ही, अड़ते जाना तू,

साम,दाम या दण्ड,भेद हो,
पग-पग ही बढ़ते जाना तू,

आज नहीं,कल हो जायेगा,
रोज, नया गढ़ते जाना तू,

वो विकास की सीढ़ी,पगले,
तेरी है, चढ़ते जाना तू,

मंजिल मिल जायेगी तुझको,
हिम्मत से बढ़ते जाना तू,

सदा बुजुर्गों के अनुभव को,
शीश झुका,पढ़ते जाना तू,

अगर बुराई, हो हावी तो,
ताकत से लड़ते जाना तू,

रमेश शर्मा”राज”
बुदनी

1 Like · 443 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
महोब्बत करो तो सावले रंग से करना गुरु
महोब्बत करो तो सावले रंग से करना गुरु
शेखर सिंह
उस सावन के इंतजार में कितने पतझड़ बीत गए
उस सावन के इंतजार में कितने पतझड़ बीत गए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
ऑंसू छुपा के पर्स में, भरती हैं पत्नियॉं
ऑंसू छुपा के पर्स में, भरती हैं पत्नियॉं
Ravi Prakash
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
उनके जख्म
उनके जख्म
'अशांत' शेखर
🍁
🍁
Amulyaa Ratan
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
डॉ० रामबली मिश्र हरिहरपुरी का
Rambali Mishra
मंजिलों की तलाश में, रास्ते तक खो जाते हैं,
मंजिलों की तलाश में, रास्ते तक खो जाते हैं,
Manisha Manjari
कदम पीछे हटाना मत
कदम पीछे हटाना मत
surenderpal vaidya
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
जेष्ठ अमावस माह का, वट सावित्री पर्व
जेष्ठ अमावस माह का, वट सावित्री पर्व
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नारी है तू
नारी है तू
Dr. Meenakshi Sharma
गुजरा वक्त।
गुजरा वक्त।
Taj Mohammad
शिक्षक हमारे देश के
शिक्षक हमारे देश के
Bhaurao Mahant
कँहरवा
कँहरवा
प्रीतम श्रावस्तवी
"मित्रता"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
Desert fellow Rakesh
5) कब आओगे मोहन
5) कब आओगे मोहन
पूनम झा 'प्रथमा'
यादों की सुनवाई होगी
यादों की सुनवाई होगी
Shweta Soni
सबके राम
सबके राम
Sandeep Pande
कैसे गीत गाएं मल्हार
कैसे गीत गाएं मल्हार
Nanki Patre
#अज्ञानी_की_कलम
#अज्ञानी_की_कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ढूंढें .....!
ढूंढें .....!
Sangeeta Beniwal
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
फितरत आपकी जैसी भी हो
फितरत आपकी जैसी भी हो
Arjun Bhaskar
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
मुद्दतों बाद खुद की बात अपने दिल से की है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अलविदा
अलविदा
Dr fauzia Naseem shad
Samay  ka pahiya bhi bada ajib hai,
Samay ka pahiya bhi bada ajib hai,
Sakshi Tripathi
2289.पूर्णिका
2289.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आटा
आटा
संजय कुमार संजू
Loading...