Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 May 2016 · 1 min read

गीतिका

कारे-कारे कजरारे
बदरा रे नीर बहा रे
तड़पे तपती धरती भी
माटी की तपन बुझा रे
पक्षी प्यासे भटक रहे
जल देकर प्राण बचा रे
त्रास मची गरमी भीषण
शीतल रसधार बहा रे
भीगूंगी तैयार खड़ी
मेरी छत पर आ जा रे

228 Views
You may also like:
हम सवालों को
Dr fauzia Naseem shad
कुछ शेर रफी के नाम ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
क्या ग़लत मैंने किया
Kaur Surinder
अच्छा लगता है
लक्ष्मी सिंह
असत्य पर सत्य की जीत
VINOD KUMAR CHAUHAN
"अशांत" शेखर भाई के लिए दो शब्द -
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
देवी माँ के नौ दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वक्त
Annu Gurjar
आजादी के दीवानों ने
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
२४३. "आह! ये आहट"
MSW Sunil SainiCENA
भुलाने की कोशिश में तुझे याद कर जाता हूँ
Writer_ermkumar
■ व्यंग्य / एडिटेड फोटो, इम्पोर्टेड और एडॉप्टेड कमेंट 😊
*Author प्रणय प्रभात*
विश्वास की मंजिल
Buddha Prakash
तांका
Ajay Chakwate *अजेय*
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
तुलसी गीत
Shiva Awasthi
तुम्हारा खयाल आया है।
Taj Mohammad
सिद्ध है
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Right way
Dr.sima
कोई नई ना बात है।
Dushyant Kumar
Atma & Paramatma
Shyam Sundar Subramanian
भगवान बताएं कैसे :भाग-1
AJAY AMITABH SUMAN
जिन्दगी ने किया मायूस
Anamika Singh
*तितली रानी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
अकेले-अकेले
Rashmi Sanjay
चंदा के डोली उठल
Shekhar Chandra Mitra
गोविंद से बड़ा होता गुरु है
gurudeenverma198
शख्सियत - मॉं भारती की सेवा के लिए समर्पित योद्धा...
Deepak Kumar Tyagi
✍️✍️माँ✍️✍️
'अशांत' शेखर
राह के कांटे हटाते ही रहें।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...