Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Dec 2017 · 1 min read

“गीतिका”

“गीतिका”

यादें सहज अतीत मिली है
वीणा को संगीत मिली है
मन महफिल पहचान मिली
धूप खिली है शीत मिली है॥

वाह अनोखा है यह संगम
बहुत पुरानी प्रीत मिली है॥

कुछ न कहना कुछ नहीं सुनना
चाहत आज सभीत मिली है॥

ललक परखती आँख पुरानी
बिछड़े मौसम मीत मिली है॥

आओगे तुम एकबार क्या
सुनने मुझे प्रतीत मिली है॥

असमंजस में आया “गौतम”
नयन भिगाती रीत मिली है॥

महातम मिश्रा, गौतम गोरखपुरी

240 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दुखों का भार
दुखों का भार
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नेता जब से बोलने लगे सच
नेता जब से बोलने लगे सच
Dhirendra Singh
मेरे सिवा अब मुझे कुछ याद नहीं रहता,
मेरे सिवा अब मुझे कुछ याद नहीं रहता,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हरा-भरा अब कब रहा, पेड़ों से संसार(कुंडलिया )
हरा-भरा अब कब रहा, पेड़ों से संसार(कुंडलिया )
Ravi Prakash
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
Shweta Soni
झोली फैलाए शामों सहर
झोली फैलाए शामों सहर
नूरफातिमा खातून नूरी
आपसी समझ
आपसी समझ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रात का रक्स जारी है
रात का रक्स जारी है
हिमांशु Kulshrestha
बिसुणी (घर)
बिसुणी (घर)
Radhakishan R. Mundhra
!! प्रेम बारिश !!
!! प्रेम बारिश !!
The_dk_poetry
होश खो देते जो जवानी में
होश खो देते जो जवानी में
Dr Archana Gupta
क्या कहेंगे लोग
क्या कहेंगे लोग
Surinder blackpen
मेरे प्रेम पत्र
मेरे प्रेम पत्र
विजय कुमार नामदेव
Only attraction
Only attraction
Bidyadhar Mantry
ऐसा भी नहीं
ऐसा भी नहीं
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ख़ामोशी जो पढ़ सके,
ख़ामोशी जो पढ़ सके,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"आशा"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरी इबादत करूँ, कि शिकायत करूँ
तेरी इबादत करूँ, कि शिकायत करूँ
VINOD CHAUHAN
अधूरा घर
अधूरा घर
Kanchan Khanna
सृजन
सृजन
Bodhisatva kastooriya
विरह
विरह
नवीन जोशी 'नवल'
आप पाएंगे सफलता प्यार से।
आप पाएंगे सफलता प्यार से।
सत्य कुमार प्रेमी
सुबह – सुबह की भीनी खुशबू
सुबह – सुबह की भीनी खुशबू
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"पूनम का चांद"
Ekta chitrangini
दर्द-ए-सितम
दर्द-ए-सितम
Dr. Sunita Singh
भक्ति की राह
भक्ति की राह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
Ranjeet kumar patre
ईश्वर किसी को भीषण गर्मी में
ईश्वर किसी को भीषण गर्मी में
*Author प्रणय प्रभात*
“हिचकी
“हिचकी " शब्द यादगार बनकर रह गए हैं ,
Manju sagar
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
#डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...