Sep 25, 2016 · 1 min read

गीतिका/ग़ज़ल

एक गीतिका……
काफिया- अर, रदीफ़- जाते ,
वज्न- 1222 1222 1222 1222
गीतिका
बहुत अब हो गई बातें, बहुत अरमान हर रातें
विवसता ले कदम चलते, खुशी बरबाद कर जाते
यही कहता रहा दुश्मन, कि दामन पाक है उसका
मगर उसके महकमे ही, दुसह अपराध कर जाते॥
कहूँ कितना दिखाऊँ क्या, छुपी नापाक हरकत को
वतन के नाम पर हल्ला, नियति बदनाम कर जाते॥
मदरसे में रखी पुस्तक, न खुद किरदार पढ़ पाती
मरहला खुद कहाँ लिखता, लहू अखबार भर जाते॥
असलहे हाथ से चलते, नकाबों से तनिक पूछो
न मुर्दा खुद हिला करते, कब्र में तर बतर जाते॥
रखें हम धैर्य का दरिया, पढ़ो तो खोलकर आंखे
खंजर पीठ पिछे दुश्मनी, कई इंसान मर जाते॥
सुन अब गौतमी चाहें, वतन के प्राण पर हमला
क्षमा हक ना मिले कातिल, करम निरवाण हर जाते॥
महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

104 Views
You may also like:
आज का विकास या भविष्य की चिंता
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता श्रेष्ठ है इस दुनियां में जीवन देने वाला है
सतीश मिश्र "अचूक"
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
माँ तुम्हें सलाम हैं।
Anamika Singh
अप्सरा
Nafa writer
भाग्य की तख्ती
Deepali Kalra
पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी, एक सच्चे इंसान थे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक थे वशिष्ठ
Suraj Kushwaha
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
नमन!
Shriyansh Gupta
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
बाबू जी
Anoop Sonsi
इश्क में बेचैनियाँ बेताबियाँ बहुत हैं।
Taj Mohammad
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
*स्मृति डॉ. उर्मिलेश*
Ravi Prakash
जिन्दगी है हमसे रूठी।
Taj Mohammad
आपस में तुम मिलकर रहना
Krishan Singh
लाल टोपी
मनोज कर्ण
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
कविता पर दोहे
Ram Krishan Rastogi
नेकी कर इंटरनेट पर डाल
हरीश सुवासिया
मन बस्या राम
हरीश सुवासिया
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तुम...
Sapna K S
डगर कठिन हो बेशक मैं तो कदम कदम मुस्काता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
फूलो की कहानी,मेरी जुबानी
Anamika Singh
Loading...