Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Dec 2023 · 1 min read

गीता जयंती

गीता ऐसा ग्रन्थ है
जिसे उचरा भगवान।
पढ़कर सुनकर देख लो,
मिले अलौकिक ज्ञान।

मिले अलौकिक ज्ञान,
दिशा पाओ उजियारी।
मिटे तीन सन्ताप,
है गीता इतनी न्यारी।

हरि की शिक्षा है छिपी,
ग्रन्थ है बहुत महान।
गीता को जो भी पढ़ा,
मिटा सकल अज्ञान।

अगहन शुक्ल एकादशी,
गीता जयंती होय।
जो कोई सुनता बांचता,
रिक्त रहे न कोय।

भक्ति की शक्ती देत है,
देत प्रबल प्रज्ञान।
गीता ऐसा ग्रन्थ है
जिसे उचरा भगवान।

गीता जयंती
प्रतिवर्ष:-
मार्गशीर्ष,
शुक्ल,एकादशी,

125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
गुजर जाती है उम्र, उम्र रिश्ते बनाने में
गुजर जाती है उम्र, उम्र रिश्ते बनाने में
Ram Krishan Rastogi
मन सोचता है...
मन सोचता है...
Harminder Kaur
लेखक
लेखक
Shweta Soni
चुनावी वादा
चुनावी वादा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
*शुभ रात्रि हो सबकी*
*शुभ रात्रि हो सबकी*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सच कहूं तो
सच कहूं तो
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
2648.पूर्णिका
2648.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
#दुःखद_दिन-
#दुःखद_दिन-
*Author प्रणय प्रभात*
ఇదే నా భారత దేశం.
ఇదే నా భారత దేశం.
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
दिल के सभी
दिल के सभी
Dr fauzia Naseem shad
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
Sanjay ' शून्य'
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
राजयोग आलस्य का,
राजयोग आलस्य का,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"सफलता"
Dr. Kishan tandon kranti
पहाड़ पर कविता
पहाड़ पर कविता
Brijpal Singh
जब हम गरीब थे तो दिल अमीर था
जब हम गरीब थे तो दिल अमीर था "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
माहिया छंद विधान (पंजाबी ) सउदाहरण
माहिया छंद विधान (पंजाबी ) सउदाहरण
Subhash Singhai
उपहास
उपहास
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
अजहर अली (An Explorer of Life)
🇭🇺 झाँसी की वीरांगना
🇭🇺 झाँसी की वीरांगना
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भैया  के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
भैया के माथे तिलक लगाने बहना आई दूर से
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जब बहुत कुछ होता है कहने को
जब बहुत कुछ होता है कहने को
पूर्वार्थ
*आई सदियों बाद है, राम-नाम की लूट (कुंडलिया)*
*आई सदियों बाद है, राम-नाम की लूट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
गूँगी गुड़िया ...
गूँगी गुड़िया ...
sushil sarna
होली (होली गीत)
होली (होली गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
दुनिया एक मेला है
दुनिया एक मेला है
VINOD CHAUHAN
संघर्ष....... जीवन
संघर्ष....... जीवन
Neeraj Agarwal
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...