Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2023 · 2 min read

गिरगिट

लघुकथा

गिरगिट

पड़ोसी देश के सैनिकों द्वारा सीमा पर अचानक गोलीबारी कर देने से कई सैनिक मारे गए। पूरे देश में आक्रोश व्याप्त हो गया। सभी लोगों की देशभक्ति पूरे उफान पर था। कम-ज्यादा पढ़े-लिखे आम आदमी और साहित्यकार सोसल मीडिया पर सक्रिय थे। वे जमकर अपनी भड़ास निकाल रहे थे।

कवि रसराज भी लगातार वीररस की पद्य और गद्ममय रचनाओं से सोसल मीडिया में छाए हुए थे। प्रतिदिन दो-तीन पोस्ट नियमित रूप से कर रहे थे। ढाई-तीन हजार लाइक-कॉमेंट्स और दर्जनों शेयर उनमें अतिरिक्त ऊर्जा का संचार कर रहे थे। वाकई उनकी भावाभिव्यक्ति ऐसी थी, कि मुर्दा दिल भी उठ कर खड़ा हो जाए।

एक दिन शाम को चाय पीते हुए वे अपनी श्रीमती जी से बोले, “मालती, आज तो कमाल हो गया। साढ़े चार हजार लाईक्स, ढाई हजार कॉमेंट्स, नौ सौ शेयर…”

मालती खुश होकर बोली, “सो तो होगा ही जी। मुझे आप पर बहुत गर्व है। आप लिखते ही इतना अच्छा हैं कि जी करता है आपका हाथ चूम लूँ।”

वे रोमांटिक मूड में बोले, “तो रोका किसने है जी।”

मालती झेंप गई, “आप भी ना, बेल-कुबेल कुछ देखते नहीं। मौका मिला नहीं कि कहीं भी शुरू हो जाते हैं।”

“अरे भई, तुम तो सीरीयस हो गई। मैं तो यूँ ही मजाक कर रहा था।” वे बोले।

“अरे हाँ, मैं तो बताना भूल ही गई थी, आज दोपहर कुछ स्कूली बच्चे आए थे, प्रधानमंत्री राहत कोश में सहायता राशि भेजने के लिए चंदा माँगने। मैंने आपके पोस्ट से प्रभावित होकर उन्हें पचास रुपए दे दिए।” वह प्यार से पति का हाथ पकड़ कर बोली।

“क्या…? पचास रुपए… पागल हो गई है तू…ये स्कूल वाले भी ना…. बस मौका तलाशते रहते हैं, वसूली के।” उन्होंने हाथ को झटकते हुआ कहा, “और सत्यानाश हो तेरा। एक बार पूछ तो लिया होता मुझसे। पूरा मूड खराब कर दिया। ये प्रवचन क्या तेरे लिए ही लिखा था बेवकूफ औरत ?…..”

मालती को चक्कर आने लगा था। कुछ देर पहले जिस पति पर उसे गर्व की अनुभूति हो रही थी, अब उसी पर घिन आने लगी थी।

– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

196 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"चलना सीखो"
Dr. Kishan tandon kranti
भारत शांति के लिए
भारत शांति के लिए
नेताम आर सी
जन्मदिन पर लिखे अशआर
जन्मदिन पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
2492.पूर्णिका
2492.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
स्त्री न देवी है, न दासी है
स्त्री न देवी है, न दासी है
Manju Singh
प्रेमी-प्रेमिकाओं का बिछड़ना, कोई नई बात तो नहीं
प्रेमी-प्रेमिकाओं का बिछड़ना, कोई नई बात तो नहीं
The_dk_poetry
मैं स्वयं को भूल गया हूं
मैं स्वयं को भूल गया हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रोम-रोम में राम....
रोम-रोम में राम....
डॉ.सीमा अग्रवाल
25)”हिन्दी भाषा”
25)”हिन्दी भाषा”
Sapna Arora
प्रकृति
प्रकृति
Seema Garg
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
Dr arun kumar शास्त्री
Dr arun kumar शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
हम दुसरों की चोरी नहीं करते,
Dr. Man Mohan Krishna
News
News
बुलंद न्यूज़ news
श्रीकृष्ण
श्रीकृष्ण
Raju Gajbhiye
मैं हूं ना
मैं हूं ना
Sunil Maheshwari
रिश्ता
रिश्ता
अखिलेश 'अखिल'
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
*टैगोर काव्य गोष्ठी/ संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ*
*टैगोर काव्य गोष्ठी/ संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ*
Ravi Prakash
चुल्लू भर पानी में
चुल्लू भर पानी में
Satish Srijan
संघर्षों की एक कथाः लोककवि रामचरन गुप्त +इंजीनियर अशोक कुमार गुप्त [ पुत्र ]
संघर्षों की एक कथाः लोककवि रामचरन गुप्त +इंजीनियर अशोक कुमार गुप्त [ पुत्र ]
कवि रमेशराज
तीन मुट्ठी तन्दुल
तीन मुट्ठी तन्दुल
कार्तिक नितिन शर्मा
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी अकेले हैं।
जिंदगी के रंगमंच में हम सभी अकेले हैं।
Neeraj Agarwal
"आंधी की तरह आना, तूफां की तरह जाना।
*प्रणय प्रभात*
झूठ रहा है जीत
झूठ रहा है जीत
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
शून्य ही सत्य
शून्य ही सत्य
Kanchan verma
पके फलों के रूपों को देखें
पके फलों के रूपों को देखें
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
गजब है सादगी उनकी
गजब है सादगी उनकी
sushil sarna
जितना आपके पास उपस्थित हैं
जितना आपके पास उपस्थित हैं
Aarti sirsat
Loading...