Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Aug 2023 · 1 min read

गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर

गांव की ख्वाइश है शहर हो जानें की और जो गांव हो चुके हैं शहर उनकी ख्वाइश है, अपने आंचल में एक गांव फिर से बसाने की।
-सोniya:)

2 Likes · 421 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
???????
???????
शेखर सिंह
बाल कविता : काले बादल
बाल कविता : काले बादल
Rajesh Kumar Arjun
सबको   सम्मान दो ,प्यार  का पैगाम दो ,पारदर्शिता भूलना नहीं
सबको सम्मान दो ,प्यार का पैगाम दो ,पारदर्शिता भूलना नहीं
DrLakshman Jha Parimal
Vishal Prajapati
Vishal Prajapati
Vishal Prajapati
पढ़ते है एहसासों को लफ्जो की जुबानी...
पढ़ते है एहसासों को लफ्जो की जुबानी...
पूर्वार्थ
मैं उस बस्ती में ठहरी हूँ जहाँ पर..
मैं उस बस्ती में ठहरी हूँ जहाँ पर..
Shweta Soni
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
प्यार कर रहा हूँ मैं - ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मुझे भी बतला दो कोई जरा लकीरों को पढ़ने वालों
मुझे भी बतला दो कोई जरा लकीरों को पढ़ने वालों
VINOD CHAUHAN
जाने वो कौन सी रोटी है
जाने वो कौन सी रोटी है
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
प्रयास सदैव उचित और पूर्ण हो,
प्रयास सदैव उचित और पूर्ण हो,
Buddha Prakash
राजू और माँ
राजू और माँ
SHAMA PARVEEN
इंसान अच्छा है या बुरा यह समाज के चार लोग नहीं बल्कि उसका सम
इंसान अच्छा है या बुरा यह समाज के चार लोग नहीं बल्कि उसका सम
Gouri tiwari
(21)
(21) "ऐ सहरा के कैक्टस ! *
Kishore Nigam
सत्य से विलग न ईश्वर है
सत्य से विलग न ईश्वर है
Udaya Narayan Singh
पौधरोपण
पौधरोपण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कह न पाई सारी रात सोचती रही
कह न पाई सारी रात सोचती रही
Ram Krishan Rastogi
2574.पूर्णिका
2574.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सभी को सभी अपनी तरह लगते है
सभी को सभी अपनी तरह लगते है
Shriyansh Gupta
रमल मुसद्दस महज़ूफ़
रमल मुसद्दस महज़ूफ़
sushil yadav
जब कोई दिल से जाता है
जब कोई दिल से जाता है
Sangeeta Beniwal
*मायूस चेहरा*
*मायूस चेहरा*
Harminder Kaur
..कदम आगे बढ़ाने की कोशिश करता हू...*
..कदम आगे बढ़ाने की कोशिश करता हू...*
Naushaba Suriya
*ए.पी. जे. अब्दुल कलाम (हिंदी गजल)*
*ए.पी. जे. अब्दुल कलाम (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
आँखों की गहराइयों में बसी वो ज्योत,
आँखों की गहराइयों में बसी वो ज्योत,
Sahil Ahmad
प्यार समंदर
प्यार समंदर
Ramswaroop Dinkar
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
कवि दीपक बवेजा
■ हाय राम!!
■ हाय राम!!
*प्रणय प्रभात*
" जलचर प्राणी "
Dr Meenu Poonia
जुदा होते हैं लोग ऐसे भी
जुदा होते हैं लोग ऐसे भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...