Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2023 · 2 min read

श्रोता के जूते

लोग औरों की बात करते हैं
मगर मैं डरता हूँ
इसलिए जब कभी भी मंच पर होता हूँ
बस अपने घर की बात करता हूँ
फिर भी जो होनी है
वह हो ही जाती है
जनता जिस को धोना चाहती है
धो ही जाती है
एक बार एक कवि सम्मेलन में
जब मेरा नंबर आया
तो संचालक महोदय ने
यूँ बुलाया
अब मैं ऐसा कवि पेश कर रहा हूँ
मंद है जिसकी मति
ये हैं जोरू के गुलाम
श्रीमान कांतिपति
अपना नाम सुना
विशेषण भी भाया
मटकते हुए
माइक तक आया
श्रोता जन सिटी बजाए
देने को सम्मान
मैं करने लगा पत्नी का गुणगान
मैं कविता पढ़ रहा था
जनमानस पर छा रहा था
तालियों की गड़गड़ाहट थी
सब को भा रहा था
तुक भरे शब्दों से खेल रहा था
हास्य और व्यंग्य साथ-साथ ठेल रहा था
मैं बतला रहा था
कैसे पत्नी-स्तुति करता हूँ
कैसे भोजन पकाता हूँ
कैसे लगाता हूँ झाड़ू
मैं बतला रहा था
ससुराल का संचालन
कितने दिन मैं करता हूँ
कितने दिन मेरा साढ़ू
मैं बतला रहा था
आदरणीय सोता श्रोता जन
मेरी बीवी बड़ी खिलाड़ी है
मेरे सिर को फुटबॉल समझ कर
ना जाने कितने किक मारी है
तभी एक जूता मंच पर आया
सिर से टकराया
मैंने कहा अरे भाई
मंच पर एक ही जूता किसने चलाया
तो कोने में खड़ा एक सज्जन चिल्लाए
अबे वो कवि की औलाद
तेरी सारी हेकड़ी झाड़ दूँगा
चुप हो जा वरना दूसरा भी मार दूँगा
ज्यादा बकबक किया
तो आँख में घुसेड़ दूँगा सुई
मेरे घर की बात
बोलने की तेरी हिम्मत कैसे हुई
अबे तू दूसरों के घर की राज खोलेगा
मेरे घर की बात मंच से बोलेगा
उस सज्जन के हाथ में
लपलपाता चमचमाता जूता देखकर
मेरा मन ललचाया
मैंने वक्तव्य को इस प्रकार आगे बढ़ाया
बात किसी के भी घर की हो
अगर उस में दम है तो भेद खोलूँगा
मसालेदार चीज आपके घर में है
तो क्या आप के बाप के घर की बोलूँगा
इतना सुनते ही
सज्जन तावमें आए
उनका जूता
मेरे नसीब में था
चलाए
उनका निशाना अचूक था
मेरे ऊपर ही आया
मैंने भी कुशल क्रिकेटर की तरह कैच लपका
व पहला मंच से उठाया
नीचे उतरा
जैकेट की बटन खोली
दोनों जेबों में एक-एक जूता रखा
घर की राह हो ली
और जब घर पहुँचा
तो वहाँ का मंजर ही निराला था
क्योंकि नंगे पाँव विराजमान
मेरा हमउम्र साला था।

1 Like · 246 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
View all
You may also like:
* बताएं किस तरह तुमको *
* बताएं किस तरह तुमको *
surenderpal vaidya
चुनाव
चुनाव
Neeraj Agarwal
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
23-निकला जो काम फेंक दिया ख़ार की तरह
Ajay Kumar Vimal
तन्हाई बिछा के शबिस्तान में
तन्हाई बिछा के शबिस्तान में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नशा
नशा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
हमने किस्मत से आंखें लड़ाई मगर
हमने किस्मत से आंखें लड़ाई मगर
VINOD CHAUHAN
आप आज शासक हैं
आप आज शासक हैं
DrLakshman Jha Parimal
मेरे जीने की एक वजह
मेरे जीने की एक वजह
Dr fauzia Naseem shad
हौसले हमारे ....!!!
हौसले हमारे ....!!!
Kanchan Khanna
कुछ ख्वाब
कुछ ख्वाब
Rashmi Ratn
नियम पुराना
नियम पुराना
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
तुम्हारा घर से चला जाना
तुम्हारा घर से चला जाना
Dheerja Sharma
"जीवन"
Dr. Kishan tandon kranti
*जिंदगी में जब मिले सुख-दुख पिता की याद आई (गीत )*
*जिंदगी में जब मिले सुख-दुख पिता की याद आई (गीत )*
Ravi Prakash
हिन्दी माई
हिन्दी माई
Sadanand Kumar
काश ! ! !
काश ! ! !
Shaily
आत्मस्वरुप
आत्मस्वरुप
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
लड़खड़ाते है कदम
लड़खड़ाते है कदम
SHAMA PARVEEN
खूबसूरत लम्हें जियो तो सही
खूबसूरत लम्हें जियो तो सही
Harminder Kaur
माँ
माँ
Kavita Chouhan
हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
हर्षित आभा रंगों में समेट कर, फ़ाल्गुन लो फिर आया है,
Manisha Manjari
15. गिरेबान
15. गिरेबान
Rajeev Dutta
ओम के दोहे
ओम के दोहे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
आया बसन्त आनन्द भरा
आया बसन्त आनन्द भरा
Surya Barman
शून्य हो रही संवेदना को धरती पर फैलाओ
शून्य हो रही संवेदना को धरती पर फैलाओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अक्सर लोगों को बड़ी तेजी से आगे बढ़ते देखा है मगर समय और किस्म
अक्सर लोगों को बड़ी तेजी से आगे बढ़ते देखा है मगर समय और किस्म
Radhakishan R. Mundhra
■ आज का नमन्।।
■ आज का नमन्।।
*Author प्रणय प्रभात*
ख़ालीपन
ख़ालीपन
MEENU
चंचल पंक्तियाँ
चंचल पंक्तियाँ
Saransh Singh 'Priyam'
Loading...